कोरोना आपदा से नुकसान की भरपाई को जनता पर टैक्स नहीं

2020-06-01T11:30:02Z

कोरोना आपदा से नुकसान की भरपाई को जनता पर टै1स नहीं- 27 लाख कामगारों के साथ एमएसएमई से1टर ने चालू किया काम बड़े उद्योग भी हुए शुरू- कोरोना मरीजों के लिए एक लाख बेड वाला यूपी पहला राज्य टेस्टिंग क्षमता जून अंत तक 20 हजार होगीद्यह्वष्द्मठ्ठश्र2@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठरुष्टयहृह्रङ्ख 31 रूड्ड4 : 'कोरोना आपदा से लडखड़ाई उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था अब फिर

- 27 लाख कामगारों के साथ एमएसएमई सेक्टर ने चालू किया काम, बड़े उद्योग भी हुए शुरू

- कोरोना मरीजों के लिए एक लाख बेड वाला यूपी पहला राज्य, टेस्टिंग क्षमता जून अंत तक 20 हजार होगी

द्यह्वष्द्मठ्ठश्र2@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

रुष्टयहृह्रङ्ख : 'कोरोना आपदा से लडखड़ाई उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था अब फिर पटरी पर आ रही है। प्रदेश में आíथक गतिविधियां तेजी से आगे बढ़ रही हैं और अप्रैल की तुलना में मई में हमें अच्छा राजस्व मिल रहा है। सरकार, लॉकडाउन के कारण हुए वित्तीय नुकसान की भरपाई के लिए जनता पर कोई नया टैक्स नहीं लगाएगी बल्कि उसे और राहत देने की कोशिश कर रही है.' यह कहना है प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का। वे रविवार को वेबिनार के जरिए पत्रकारों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के दौरान केंद्र सरकार की ओर से घोषित आíथक पैकेज का सबसे ज्यादा लाभ यूपी को मिला है।

जान भी, जहान भी दोनों को साथ लेकर चलेंगे

सीएम योगी ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान सरकार ने आíथक गतिविधियों को भी तेजी से आगे बढ़ाने का काम किया है। कोशिश है कि हम 'जान भी और जहान भी', दोनों को साथ लेकर चलें। सभी बड़े प्रोजेक्ट लगभग प्रारंभ हो चुके हैं। एक्सप्रेसवे परियोजनाओं, डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और मेडिकल कॉलेज निर्माण कार्य प्रारंभ हो चुके हैं। एमएसएमई सेक्टर ने 27 लाख लोगों के साथ काम करना शुरू कर दिया है। बड़े उद्योग प्रारंभ हो चुके हैं जिनमें 65 हजार से ज्यादा लोगों ने काम शुरू कर दिया है। कोरोना संकट के कारण पर्यटन क्षेत्र को धक्का लगा लेकिन अब इस सेक्टर में गतिविधियां फिर से आगे बढ़ेंगी।

नये निवेश के आ रहे प्रस्ताव

एक और सवाल पर उन्होंने बताया कि नए निवेश के लिए प्रस्ताव आने शुरू हो चुके हैं। विभिन्न क्षेत्रों में निवेश के लिए अलग-अलग मंत्री समूह गठित हो चुके हैं, अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया के कारोबारियों की सुविधा के लिए डेस्क स्थापित हो चुकी हैं। उनसे लगातार संवाद जारी है। चीन से कदम खींचने के इच्छुक निवेशक यूपी को भारत का सबसे अच्छे गंतव्य के तौर पर देखते हैं। हाल में ही में जर्मनी की एक कंपनी ने निवेश के लिए उत्तर प्रदेश का चयन किया है। संकट के इस समय में भी यूपी नए निवेश के लिए पूरी तरह तैयार है।

श्रमिक-कामगार हमारी ताकत

योगी ने बताया कि बाहरी राज्यों से सर्वाधिक 30 लाख कामगार व श्रमिक उत्तर प्रदेश में आए हैं। लोग कहते थे कि इससे उत्तर प्रदेश में अव्यवस्था फैल सकती है, लेकिन मेरा मानना था कि वे हमारी ताकत हैं। उन्हें सामाजिक-आíथक सुरक्षा देने और उनके व्यवस्थित पुनर्वास के लिए हमारी सरकार कामगार कल्याण आयोग गठित करने जा रही है। लॉकडाउन के दौरान भी प्रदेश में 119 चीनी मिलें, 12 हजार से ज्यादा ईंट-भट्ठे और ढाई हजार से अधिक कोल्ड स्टोरेज चले जिनमें 25 लाख लोगों को रोजगार मिला। बंदी के दौरान प्रदेश के 94 फीसदी उद्यमों में श्रमिकों को 1700 करोड़ रुपये मानदेय और वेतन दिलाने की व्यवस्था कराई गई।

बॉक्स

30 जून तक दोगुनी करेंगे कोरोना टेस्टिंग क्षमता

सीएम ने बताया कि कोरोना संकट से लड़ने के लिए आज हमारे पास कोविड के लेवल-1,2 और 3 अस्पतालों में एक लाख से ज्यादा बेड उपलब्ध हैं जो देश में सर्वाधिक है। यूपी में प्रतिदिन 10 हजार नमूनों की जांच की क्षमता उपलब्ध है। इसे 15 जून तक बढ़ाकर 15000 और 30 जून तक 20000 करने की व्यवस्था की जा रही है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पिछले 15 दिनों के दौरान प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या अचानक बढ़ी है। यह आंकड़े टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि होने के कारण बढ़े हैं। कोरोना संक्रमितों की मेडिकल स्क्रीनिंग के लिए स्वास्थ्यकíमयों की एक लाख से ज्यादा टीमें लगी हुई हैं।

बॉक्स

कांग्रेस का अपराध अक्षम्य

बसों को लेकर कांग्रेस और राजस्थान सरकार से विवाद पर योगी ने कहा कि कोटा से जब हम बच्चे लेकर आए तो राजस्थान की सरकार ने डीजल के पैसे तो लिए ही, ऊपर से बसों का किराया भी मांग लिया। कांग्रेस ने बस चलाने की अनुमित मांगी, लेकिन उनकी बसें कंडम निकलीं। हमने उनके प्रस्ताव को स्वीकार किया तो वे आंकड़े इतने फर्जी निकले कि अगर हम उस पर सहमति दे देते तो श्रमिकों के जीवन के साथ खिलवाड़ होता। कोरोना के खिलाफ लड़ाई के समय में इस तरह का फर्जीवाड़ा अक्षम्य अपराध है।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.