एक तो कोरोना काल उस पर डेंगू कर रहा बवाल

Updated Date: Sun, 25 Oct 2020 04:08 PM (IST)

335 डेंगू के मामले आ चुके हैं सामने

77 टीमें डेंगू की रोकथाम के लिए लगाई गई हैं

14 दिनों तक आ सकते हैं डेंगू के लक्षण

- राजधानी में लगातार बढ़ते जा रहे हैं डेंगू के मामले

- तमाम दावों के बावजूद डेंगू पर नहीं कोई नियंत्रण

LUCKNOW: राजधानी में कोरोना के बीच डेंगू भी लगातार अपना प्रकोप दिखा रहा है। यहां अब तक डेंगू के करीब 335 मामले सामने आ चुके हैं, हालांकि अभी आधिकारिक तौर पर डेंगू से मौत का कोई भी मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का दावा है कि जिस भी एरिया में डेंगू के मामले सामने आ रहे हैं, वहां फॉगिंग के साथ एंटी लार्वा का छिड़काव कराया जा रहा है।

77 टीमें कर रहीं काम

सीएमओ डॉ। संजय भटनागर ने बताया कि जिन एरिया में डेंगू के मामले सामने आ रहे हैं, उन एरिया को कंटेनमेंट जोन बनाया जा रहा है। गोमती नगर, इंदिरा नगर और अलीगंज पर वृहद स्तर पर काम किया जा रहा है। साथ ही मरीजों के घरों के पास एंटी लार्वा का छिड़काव और फॉगिंग कराई जा रही है। 77 टीमें इस काम के लिए लगाई गई हैं। शहर की सभी निजी पैथोलॉजी को आदेश दिए गए हैं कि किसी भी मरीज की डेंगू की रिपोर्ट पॉजिटिव आए तो इसकी सूचना तत्काल दी जाए, ताकि डाटा समय पर अपडेट किया जा सके। जो लैब इस काम में लापरवाही करेगी उसका रजिस्ट्रेशन रद किया जा सकता है।

खुद न करें इलाज

नेशनल वेक्टर्न बार्न डीजीज कंट्रोल के नोडल इंचार्ज डॉ। केपी त्रिपाठी ने बताया कि डेंगू रोग के लक्षण 4 दिन से लेकर 14 दिन के भीतर तक आ सकते हैं। अत्यधिक गंभीर अवस्था में दांत, मुंह और नाक से खून आने की शिकायत हो सकती है। बुखार आने पर स्वयं से इलाज न करें, तुरंत पास के सरकार अस्पताल में जाकर डेंगू की जांच कराएं। इसके लिए बलरामपुर, सिविल, आरएलबी व बीआरडी आदि हॉस्पिटल में डेंगू वार्ड बनवाए गए हैं।

बाक्स

ये हैं डेंगू के लक्षण

- शरीर में तेज बुखार

- दर्द, उल्टी, त्वचा पर चकत्ते

- तेज सिर दर्द

- पीठ व आंख में दर्द

- नाक से खून बहना

- जोड़ों में दर्द होना

बाक्स

डेंगू से ऐसे करें बचाव

- डेंगू का मच्छर दिन के समय काटता है

- ऐसे में बचाव के लिए एंटी मासक्वीटो क्रीम लगाएं

- पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें

- घर के अंदर और आसपास सफाई रखें

- कूलर, गमले और टायर आदि में पानी ना भरते दें

- पानी की टंकियों को अच्छे से ढक कर रखें

- मच्छरदानी लगाकर सोएं

- खिड़की और दरवाजों में जाली लगवाएं

कोट

डेंगू को लेकर फॉगिंग व एंटी लार्वा का छिड़काव करवाया जा रहा है। डेंगू को रोकने के लिए पूरे योजना बनाई गई है।

- डॉ। संजय भटनागर, सीएमओ

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.