नगर निगम के लिए संजीवनी बनी ऑनलाइन बैंकिंग

Updated Date: Mon, 05 Apr 2021 09:58 AM (IST)

- पिछले चार वित्तीय वर्ष के मुकाबले इस बार ऑनलाइन मोड से सर्वाधिक टैक्स जमा हुआ

- निगम के कोष में जमा हुए करीब 79.72 करोड़, 86 हजार ने ऑनलाइन जमा किया टैक्स

abhishekmishra@inext.co.in

LUCKNOW

वित्तीय संकट का सामना कर रहे नगर निगम के लिए ऑनलाइन बैंकिंग संजीवनी साबित हुई है। कोरोना काल में 86 हजार से अधिक भवन स्वामियों ने ऑनलाइन बैंकिंग से करीब 80 करोड़ के आसपास हाउस टैक्स जमा कराया है। यह आंकड़ा पिछले चार वित्तीय वर्षो की तुलना में कहीं अधिक है।

वित्तीय वर्ष 20-21 में दिखा कमाल

जो डेटा सामने आया है, उससे साफ है कि वित्तीय वर्ष 2020-21 में ज्यादातर भवन स्वामियों ने ऑनलाइन बैंकिंग से हाउस टैक्स जमा कराया है। वित्तीय वर्ष 2019-20 के मुकाबले 2020-21 में 48, 806 अधिक भवन स्वामियों ने ऑनलाइन बैंकिंग से टैक्स जमा किया है।

इस तरह समझें

वर्ष 2019-20 में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन

माध्यम संख्या टैक्स जमा

ऑनलाइन बैंकिंग 37358 9.55

आरटीजीएस 156 6.08

एनईएफटी 257 36.83

(टैक्स की राशि करोड़ में है)

वर्ष 2020-21 में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन

माध्यम संख्या टैक्स जमा

ऑनलाइन बैंकिंग 86164 20.40

आरटीजीएस 205 19.72

एनईएफटी 457 36.89

(टैक्स की राशि करोड़ में है)

इस तरह बढ़ा डिजिटल माध्यम

वित्तीय वर्ष ऑनलाइन जमा टैक्स

2016-17 0.6

2017-18 14.64

2018-19 57.53

2019-20 37.0

2020-21 79.72

(टैक्स की राशि करोड़ में है)

247 प्रतिशत की वृद्धि

निगम के अधिकारियों की माने तो पिछले साल के मुकाबले डिजिटल माध्यम से टैक्स जमा करने वालों की संख्या में 247 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, वहीं जमा टैक्स में भी 216 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

274 करोड़ जमा हुआ टैक्स

अन्य माध्यमों की बात की जाए तो उसमें भी सुधार देखने को मिला है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में निगम के कोष में कुल 274.48 करोड़ रुपये जमा हुए हैं। जो पिछले आठ वित्तीय वर्षो के मुकाबले कहीं अधिक है।

जमा टैक्स एक नजर में

वित्तीय वर्ष जमा टैक्स

2012-13 83.14

2013-14 107.98

2014-15 130.14

2015-16 150.44

2016-17 192.26

2017-18 177.02

2018-19 234.16

2019-20 208.21

2020-21 274.48

नोट- टैक्स राशि करोड़ में

भवन स्वामियों को किया जागरुक

निगम की ओर से हर वार्ड में अभियान चलाकर भवन स्वामियों से ऑनलाइन टैक्स जमा करने संबंधी अपील की गई थी। इसके साथ ही टैक्स बकाएदार भवन स्वामियों को इस संबंध में मैसेज भी भेजे गए थे, जिसका असर देखने को मिला है।

ऑनलाइन बैंकिंग से हाउस टैक्स जमा करने वालों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। उम्मीद है कि वर्तमान और आने वाले वित्तीय वर्षो में डिजिटल माध्यमों से टैक्स जमा करने का आंकड़ा और बेहतर होगा।

अशोक सिंह, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी, नगर निगम

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.