राजधानी में अब और डराने लगी कोरोना वायरस की रफ्तार

Updated Date: Thu, 09 Jul 2020 12:36 PM (IST)

- बुधवार को मिले 65 कोरोना के नए मरीज, 190 पुराने केस भी डाटा में जुड़े

- डेथ ऑडिट में कोरोना के मृतकों की संख्या पहुंची 25, टेस्ट के भी आंकड़े बढ़े

LUCKNOW: राजधानी में कोरोना संक्रमण की स्पीड कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। बुधवार को भी अलग अलग एरिया में 65 लोगों को कोरोना ने अपना शिकार बनाया। वहीं डेथ ऑडिट में तीन और मौतों का इजाफा हुआ। साथ ही 190 पुराने कोरोना के और मरीज शहर में जोड़े गए। ऐसे में शहर में मरीजों का आंकड़ा अब 1696 पहुंच गया है।

अपडेट हुआ डाटा

राजधानी में 11 मार्च को कोरोना का पहला केस आया। इस दौरान जमातियों से वायरस का तेजी से फैलाव हुआ। कई प्रदेशों के मरीज यहां दर्ज किए गए। वहीं राज्य के विभिन्न जिलों के मरीजों का इलाज भी राजधानी में हुआ। ऐसे में शहर के कोरोना के आंकड़े समय-समय पर अपडेट होते रहे। मंगलवार को शहर में 1441 कोरोना के नए मरीज रहे। वहीं अभी तक 22 मौतें रहीं। वहीं अपडेट आंकड़ों में 190 शहर में कोरोना के करीब और जोड़े गए। लिहाजा, मरीजों की संख्या शहर में 1631 हो गई। इसके अलावा बुधवार को नए मरीजों की संख्या 65 रही। ऐसे में अब कुल मरीज 1696 हो गए हैं। वहीं डेथ ऑडिट में मृतकों की संख्या भी 22 से बढ़कर 25 हो गई है। वहीं अब तक शहर और अन्य जिलों के कुल 1988 मरीजों का राजधानी के अस्पतालों में इलाज हुआ।

शहर में अब तक 61 हजार टेस्ट

सीएमओ डॉ। नरेंद्र अग्रवाल के मुताबिक शहर में रेंडम, रैपिड टेस्ट के अलावा सैंपल कलेक्शन का दायरा भी बढ़ा दिया गया है। अब सात से नौ सौ के बीच रोज सैंपल कलेक्ट किए जा रहे हैं। प्रवासी मजदूरों की भी बड़ी तादाद में जांच कराई गई है। ऐसे में मार्च से अब तक 61 हजार सैंपल टेस्ट करने का आंकड़ा आया है। वहीं अब जांच का दायरा और बढ़ाया जाएगा। रोजाना पोर्टल पर अपडेट किया जा रहा है। बुधवार 850 मरीजों का सैंपल कलेक्ट किया गया।

15 एरिया में मिले पॉजिटिव केस

शहर में बुधवार को 15 इलाकों में वायरस पाया गया है। इसमें 102 एंबुलेंस के आठ कर्मी, कारागार मुख्यालय के तीन, मंडी परिषद के चार, आलमबाग के सात, इंदिरा नगर के 13, वृंदावन योजना के दो, ठाकुरगंज के चार, राजाजीपुरम के चार, चौक के दो, पारा के दो, अलीगंज के एक, गोमती नगर के चार, रायबरेली के तीन, महानगर के पांच, कल्याणपुर के दो, अलीगंज दो मरीज पाए गए। इसके अलावा केजीएमयूए लोहिया संस्थान, साढ़ामऊ समेत विभिन्न हॉस्पिटल्स से 23 मरीज डिस्चार्ज किए गए हैं।

झलकारीबाई हॉस्पिटल की एएनएम संक्रमित

झलकारीबाई अस्पताल में एक गर्भवती मरीज का टीकाकरण कराने आई एएनएम में वायरस की पुष्टि हुई। संपर्क में आए तीन कर्मचारियों को क्वारंटीन कर दिया गया। वहीं, टीकाकरण कक्ष को बंद कर दिया गया है। संक्रमण के डर से बुधवार को कई मरीजों को वापस भेज दिया गया.सीएमएस डॉ। सुधा वर्मा का कहना है कि मरीजों को अपने साथ केवल एक तीमारदार को लाने की अनुमति है, मगर ज्यादातर मरीज दो या तीन लोगों के साथ अस्पताल आते हैं। ऐसे में अन्य मरीज व स्टाफ की जान खतरे में पड़ जाती है।

चौक सराफा तीन दिन के लिए बंद

रुष्टयहृह्रङ्ख : शहर में कोरोना के डर से बाजार बंद होने में अब चौक सर्राफा बाजार का नाम भी जुड़ गया है। चौक सर्राफा बाजार के संगठन मंत्री आदिश जैन ने बताया कि चौक बाजार गुरुवार से शनिवार तक बंद रहेगी। इसके बाद रविवार से बुधवार तक बाजार खुलेगी। इसके बाद तीन दिन फिर बाजार बंद रहेगी। उन्होंने बताया कि जब तक कोरोना का प्रकोप रहेगा तब तक बाजार चार दिन खोली जाएगी और तीन दिन बंद रहेगी।

पांडेयगंज बाजार में दो दिन के लिए बंद

उधर बुधवार को पांडेयगंज बाजार में व्यापारी को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद हड़कंप मच गया। बाजार के व्यपारियों ने आनन फानन पूरी बाजार बाद करवा दी। लखनऊ व्यापार मंडल के सीनियर महामंत्री ने बताया कि अब बाजार गुरुवार और शुक्रवार को बंद रहेगी। इस दौरान बाजार को सेनेटाइज करने की व्यवस्था की जाएगी।

कोतवालेश्वर मंदिर के कपाट बंद

चौक क्षेत्र में कोरोना महामारी का प्रकोप बढ़ने से श्री कोतवालेश्वर महादेव मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए हैं। दर्शन बाहर से ही होंगे। मंदिर के महंत विशाल गौड़ ने बताया कि चौक कोतवाली के पीछे पिछले तीन दिनों मे एक के बाद एक कोरोना मरीज मिले हैं। भक्तों की सुरक्षा को देखते हुए मंदिर ट्रस्ट ने कुछ दिनों के लिए मंदिर के कपाट बंद करने का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि मंदिर में पूजा पाठ होता रहेगा और दर्शन मंदिर के बाहर से ही होंगे। उधर, मोहान रोड स्थित बुद्धेश्वर मंदिर में हर साल लगने वाला सावन मेला इस बार नहीं लगा। यहां पांच-पांच श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टिेंसिंग के साथ अंदर भेजा गया, जहां श्रद्धालुओं ने मंदिर के बाहर लगे स्टील पाइप के माध्यम से बम भोले के जयकारे के साथ जलाभिषेक किया।

पोलिंग बूथ की तर्ज पर तय होंगे कंटेनमेंट जोन

LUCKNOW : शहर में कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं। बावजूद, यहां के लोग सतर्कता नहीं बरत रहे हैं। से में संक्रमण तेजी से फैलने का खतरा बना हुआ है। लिहाजा, स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन अब सख्ती करेगा.वहीं, कंटेनमेंट जोन अब पोलिंग बूथ की तर्ज पर बनेंगे। सीएमओ डॉ। नरेंद्र अग्रवाल के मुताबिक, डीएम के यहां बैठक में कई फैसले लिए गए हैं। इसमें जिला प्रशासन-पुलिस कोविड प्रोटोकॉल को नजरंदाज करने पर सख्ती से पेश आएगी.वहीं, कंटेनमेंट जोन को लेकर खास रणनीति बनी है। अब यह पोलिंग बूथ की तर्ज पर अति संवेदनशील, संवेदनशील व सामान्य कंटेनमेंट जोन होंगे। इसमें क्षेत्र में एक केस मिलने पर सामान्य कंटेनमेंट जोन एरिया, दो से तीन केस मिलने पर संवेदनशील कंटेनमेंट जोन एरिया व चार या उससे अधिक केस मिलने पर अति संवेदनशील कंटेनमेंट एरिया होगा। यहां सुरक्षा व पाबंदी को लेकर क्या-क्या नियम होंगे, यह जिला प्रशासन तय करेगा। कंटेनमेंट का दायरा पांच सौ मीटर का होगा।

बॉक्स

हज हाउस में बनेगा एक हजार बेड का कोविड केयर सेंटर

रुष्टयहृह्रङ्ख : कोरोना संक्रमण की रफ्तार रोकने के लिए प्रशासन तमाम इंतजाम कर रहा है। इसी क्रम में हज हाउस को एक हजार बेड का कोविड सेंटर बनाया जा रहा है। डीएम अभिषेक प्रकाश ने बुधवार को हज हाउस का निरीक्षण किया। उन्होंने हज हाउस में बने हॉल, रूम और कॉरीडोर आदि को भी देखा।

होंगे एक हजार बेड

डीएम ने कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर हज हाउस को कोविड केयर सेंटर के रूप में विकसित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि हज हाउस में एक हफ्ते के अंदर अलग-अलग हॉल में पार्टीशन कराते हुए एक हजार बेड लगवा दिए जाने के निर्देश दिए। साथ ही दो दिन के अंदर नगर निगम के जोनल अधिकारी अपनी देखरेख में पूरे परिसर की साफ-सफाई की व्यवस्था को सुनिश्चित करें।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.