जल संकट का होगा स्मार्ट सॉल्यूशन वार

Updated Date: Mon, 06 Jul 2020 05:36 PM (IST)

110 वार्डो कुल राजधानी में

50 फीसदी इलाकों में पुरानी पेयजल लाइन

20 फीसदी मोहल्लों में पेयजल लाइन नहीं

मिलेगी राहत

- सभी वार्डो में सालों पुरानी बूढ़ी पाइपलाइन को ढूंढा जाएगा

- अमृत सिटी के तहत कराया जाएगा सर्वे, तैयारियां शुरू

abhishekmishra@inext.co.in

LUCKNOW जल संकट की समस्या को दूर करने के लिए निगम प्रशासन की ओर से स्मार्ट सॉल्यूशन की दिशा में कदम उठाए गए हैं। इसके तहत पहले तो सभी वार्डो में सर्वे करके वर्षो पुरानी बुढ़ी पाइपलाइनों को सामने लाया जाएगा फिर उक्त पाइपलाइनों के स्थान पर नई पाइपलाइन को बिछाया जाएगा। इससे साफ है कि आने वाले वक्त में जनता को न सिर्फ स्वच्छ जल मिलेगा बल्कि जल संकट से भी राहत मिलेगी।

अभी आती है समस्या

शहर के कई इलाकों जैसे चौक, बांसमंडी, अमीनाबाद, लालकुआं इत्यादि में वर्षो पुरानी पेयजल लाइन पड़ी हुई है। पुरानी लाइन होने के कारण अक्सर लाइन में लीकेज हो जाता है, जिसकी वजह से लाखों लीटर पानी सड़क पर बह जाता है। वहीं पुरानी लाइन की लोकेशन डिटेल न होने के कारण लीकेज दूर करने में खासी समस्या आती है, जिसकी वजह से जनता को जलसंकट का सामना करना पड़ता है।

पार्षद उठा चुके मांग

पुराने इलाकों के पार्षदों की ओर से भी कई बार मांग की जा चुकी है कि पाइप लाइन की सही लोकेशन पता लगाने के लिए लोकेशन डिटेल उपलब्ध कराई जाए, लेकिन कोई कारगर परिणाम सामने नहीं आए।

अब मिलेगा स्मार्ट सॉल्यूशन

इस समस्या को दूर करने के लिए अब कदम उठाने की तैयारी की गई है। जानकारी के अनुसार, अमृत सिटी के तहत पूरे शहर में पाइप लाइनों (पेयजल व सीवर)का पता लगाने के लिए जीआईएस सर्वे कराया जाएगा। इस सर्वे के माध्यम से किमी के हिसाब से पाइपलाइन का पता लगाया जाएगा। जब पाइपलाइन की लोकेशन डिटेल सामने आ जाएगी तो किसी भी लाइन में फॉल्ट होने पर उसे तत्काल दूर किया जा सकेगा। जीआईएस के साथ ही भौतिक सर्वे भी कराया जाएगा।

ये फायदे होंगे

1-लीकेज की सही लोकेशन पता लग सकेगी

2-खुदाई के दौरान पाइपलाइन क्षतिग्रस्त नहीं होगी

3-जनता को पानी के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा

4-जरूरत पड़ने पर पहले ही पाइपलाइन का मेंटीनेंस किया जा सकेगा

यहां भी सर्वे

एक तरफ जहां बुढ़ी पाइपलाइन सामने आएंगी, वहीं सर्वे से यह भी जानकारी स्पष्ट हो जाएगा कि किस वार्ड में पेयजल या सीवर लाइन नहीं है। इसके बाद उक्त स्थान पर पेयजल लाइन डलवाई जाएगी। अमृत सिटी के तहत ही नई पेयजल लाइन बिछवाई जाएगी।

वर्जन

पेयजल लाइन की सही लोकेशन का पता लगाने के लिए सर्वे कराया जा रहा है। सर्वे पूरा होने के बाद आसानी से लीकेज प्वाइंट के बारे में जानकारी मिल सकेगी।

डॉ। इंद्रमणि त्रिपाठी, नगर आयुक्त

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.