पूछताछ के लिए गु्रप में लखनऊ जाएंगे सीसीएसयू कर्मचारी

Updated Date: Sat, 25 Jul 2020 01:30 PM (IST)

बयान देने के लिए एक साथ नहीं बल्कि पांच-पांच के गु्रप में कर्मचारियों को बुलाया जाएगा

शुक्रवार को एसआईटी की ओर से जारी की गई मेल, सोमवार को देंगे लखनऊ आने की पूरी जानकारी

सीसीएसयू में दो साल पहले हुए एमबीबीएस कॉपी घोटाले की एसआईटी कर रही जांच

Meerut। सीसीएसयू में दो साल पहले हुए एमबीबीएस कॉपी घोटालें में एसआईटी ने 31 कर्मचारियों को नोटिस जारी करने के साथ जेल गए दो एमबीबीएस स्टूडेंट का भी रिकॉर्ड मांगा है, उनको मार्कशीट जारी की गई या नहीं, इस बारे में जानकारी मांगी है। एसआईटी ने पांच दिनों के अंदर 31 कर्मचारियों को बयान देने के लिए लखनऊ आने के लिए जबाव मांगा था, ऐसे में कोरोनाकाल में वो कैसे जाएंगे इसको लेकर एसआईटी को लिखा गया था, अब एसआईटी ने कहा है कि सोमवार को जानकारी दी जाएगी कि लखनऊ कैसे आना है और कहां आना है। इसके साथ ही इन मेम्बर्स को पांच पांच करके आना है। हालांकि, इस बाबत शुक्रवार को एसआईटी की ओर से जारी एक मेल के। जरिए सारी जानकारी दी गई है। अब कहा जा रहा है कि सोमवार को एसआईटी से जवाब आने के बाद मंगलवार को कैम्पस के पांच कर्मचारियों को लखनऊ भेजा जा सकता है।

शुक्रवार को आया मेल

दो साल पहले एमबीबीएस कॉपी घोटाले के मामले में सीसीएसयू के चार कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है, बता दें इस मामले में 2018 में व 2019 में लगातार एसआईटी की टीम मेरठ यूनिवíसटी में जांच के लिए पहुंची थी। इसमें हर तरह का रिकॉर्ड चेक किया गया था, इसके साथ ही मामले में रेड बुक, व अन्य कुछ रिकॉर्ड जांच की मंशा से टीम अपने साथ ले गई थी, इसके बाद जांच में पहले कुछ कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया था, इसके साथ ही अभी दो स्टूडेंट के दो नाम सामने आए थे इनमें एक आयुष व दूसरा स्वर्णजीत दोनों ही सेकेंड इयर के स्टूडेंट थे वो यूएफएम के मामले में कॉपी बदलते पकड़े गए थे, हालांकि इनका नाम पहले सामने नहीं आ पाया था इसको लेकर यूनिवíसटी में थर्ड व फोर्थ इयर के फार्म तक भरवा दिए गए थे रिजल्ट भी जारी कर दिया गया था जिसमें ये पास हो गए थे, लेकिन अब इनका नाम सामने आने पर यूनिवíसटी की ओर से दोनों स्टूडेंट को परीक्षा समिति ने शुक्रवार को रिजल्ट को निरस्त कर दिया है व इनको बहाल कर दिया गया है। वहीं इस मामले में प्रोफेशनल डिपार्टमेंट के चार कर्मचारियों के नाम भी सामने आए है, जांच के बाद इनके नाम का खुलासा हुआ है इस मामले मे यूनिवíसटी की समिति ने चारों को यूनिवíसटी से सस्पेंड कर दिया है, इनमें एक कार्यालय अधीक्षक अमित कौशिक, प्रभारी राजकुमार व हर्ष गुप्ता व वरिष्ठ सहायक तृप्ति रस्तोगी को सस्पेंड कर दिया गया है। वीसी प्रो एनके तनेजा ने बताया कि इस संबंध में अभी जांच चल रही है जिनका भी इस घोटाले में हाथ है उन पर कार्रवाई की जा रही है आगे भी जो मिलेंगे उनपर कार्रवाई होगी।

दरअसल, इस बाबत शुक्रवार को एसआईटी ने सीसीएसयू के लिए एक मेल जारी किया है जिसमें कहा गया है कि सोमवार को बताया जाएगा कि कर्मचारियों को लखनऊ कैसे आना है, और किस जगह आना है। वहीं, सभी कर्मचारियों को एक साथ ही नहीं, बल्कि पांच-पांच के गु्रप में आना होगा। प्रो। वाई विमला ने बताया कि इस बारे में जांच चल रही है जो है सबके सामने है, एसआईटी जो भी सोमवार को सूचना देगी उसी के आधार पर कर्मचारियों को भेजा जाएगा। कर्मचारियों को मंगलवार तक भेजा जा सकता है सब क्लीयर हो जाएगा।

ये था मामला

दरअसल, दो साल पहले कैम्पस में एमबीबीएस की कॉपियों की अदला बदली का घोटाला सामने आया था। यूनिवíसटी से इस मामले में पकड़े गए स्टूडेंट का रिकॉर्ड मांगा है। यूनिवíसटी प्रशासन इस मामले में रिपोर्ट दे रहा हैं कि दोनों का यूएफएम होने की वजह से उन्हें मार्कशीट जारी नहीं की गई। एसटीएफ ने 17 मार्च 2018 को स्टूडेंट कविराज व यूनिवíसटी के तीन कर्मचारियों समेत आठ कर्मचारियों को गिरफ्तार किया था। खुलासा किया था कि कैम्पस में छात्र नेता कर्मचारियों की मदद से एमबीबीएस की कॉपियां बदला देता था। आरोपी कॉपियों के ऊपर का पेज छोड़कर अंदर की कॉपी हटाकर दूसरी कॉपियां सिल देते थे.इस मामले में दो स्टूडेंट का रिकॉर्ड कैम्पस से मांगा गया है। वहीं, इसके साथ ही 31 कर्मचारियों को बयान देने के लिए लखनऊ बुलाया गया है, इसके लिए पांच दिन का समय दिया गया था, ऐसे में कोरोना काल के चलते कर्मचारियों ने टीम से ये गुहार लगाई थी कोरोना काल में वो कैसे आए, इसको लेकर बहुत सी समस्याएं है,

कैंसिल कर दिया रिजल्ट

एसआईटी की जांच के बाद कॉपियों के घोटाले में पकड़े गए दो ऐसे स्टूडेंट जिनका रिजल्ट घोषित हो चुका था, वो पास हो गए थे, उनकी जांच करने के बाद अब उनका रिजल्ट यूनिवíसटी की ओर से कैंसिल कर दिया गया है, जांच में दोषी पाए जाने पर शुक्रवार को परीक्षा समिति ने आपातकाल मीटिंग कर दोनों का रिजल्ट कैंसिल कर दिया गया है व एडमिशन भी निरस्त कर दिया गया है।

चार कर्मचारी सस्पेंड, दो छात्रों का रोका रिजल्ट

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.