मरीज के घर के आसपास बनेगा माइक्रो कंटेनमेंट जोन

Updated Date: Mon, 28 Sep 2020 04:48 PM (IST)

सीएम योगी आदित्यनाथ ने की कोरोना महामारी को लेकर समीक्षा बैठक

सीएम ने कहा, टीमवर्क और रणनीति बनाकर बेहतर सर्विलांस से रोकनी होगी मृत्युदर

Meerut। कोरोना महामारी कंट्रोल करने के लिए रविवार को चीफ मिनिस्टर योगी आदित्यनाथ ने मेरठ समेत 12 जिलों की वीसी के जरिए समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने स्पष्ट कहा कि सभी टीमवर्क के साथ रणनीति बनाकर बेहतर सर्विलांस व बेहतर कांटेक्ट ट्रेसिंग कर मृत्युदर को रोकें। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जाएंगे। इसके अलावा एल-2, एल-3 अस्पताल बनाने के लिए केजीएमयू से वर्चुअल आईसीयू कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिलों में ऑक्सीजन सिलेंडर व मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। वहीं एक प्रतिशत से अधिक सीएफआर वाले प्रत्येक जनपद में कोरोना टेस्टिंग बढ़ायी जाए।

सीएम हेल्पलाइन पर फीडबैक

समीक्षा बैठक में सीएम ने कहा कि होम आइसोलेशन में एडिमट मरीजों की सीएम हेल्पलाइन से भी मॉनिटरिंग की जा रही है। व्यक्तियों से फीडबैक लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कंट्रोल रूम से आरआरटी चेकिंग की भी जानकारी ली जाए। कोरोना महामारी के नियंत्रण के लिए आमजन को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, मास्क का उपयोग करने व नियमित अंतराल पर हाथ धोने आदि के बारे में बताया जाए। उन्होंने कहा कि कांटेक्ट ट्रेसिंग को ठीक प्रकार से किया जाए। साथ ही कोरोना मरीज मिलने के उपरांत 24 से 48 घंटे के अंदर कांटेक्ट ट्रेसिंग को अंतिम रूप देते हुए संदिग्ध व्यक्तियों की जांच कराई जानी चाहिए।

ये दिए निर्देश

माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने की आवश्यकता है। इसके तहत जिस घर में कोरोना मरीज निकला है उसके आसपास के घरों तक ही जो कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा, वह माइक्रो कंटेनमेंट जोन होगा।

माइक्रो कंटेनमेंट जोन में सिविल डिफेंस, होम गार्ड, पीआरडी, एनएसएस व एनसीसी कैडेट व स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों की सेवायें ली जानी चाहिए।

एक तिहाई आरटीपीसीआर व दो तिहाई एंटीजन टेस्ट होना चाहिए।

ऐसे सभी जनपद जिनका सीएफआर एक प्रतिशत से अधिक है, वह अपने यहां कोरोना टेस्टिंग बढ़ाएं।

ऑक्सीजन सिलेंडर व एन-95 मास्क की उपलब्धता सनिश्चित हो।

कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाए।

जनपदों में कोविड हेल्प डेस्क बनाने के निर्देश दिए गए थे उसी के अनुरूप सरकारी व प्राइवेट चिकित्सालयों में, सरकारी कार्यालयों में व अन्य जगहो पर कोविड हेल्प डेस्क सुचारू रूप सें संचालित हों।

प्राइवेट अस्पताल निर्धारित दर पर ही मरीजों व तीमारदारों से चार्ज लें, यह तय किया जाए।

ये रहे मौजूद

वीसी में मेरठ, अलीगढ़, बरेली, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, लखीमपुर खीरी, आगरा, वाराणसी, गोरखपुर, प्रयागराज, लखनऊ, कानपुर नगर के नोडल अधिकारियों ने व गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी ने जनपद की प्रगति के बारे में अवगत कराया। इसके अलावा बैठक में विशेष सचिव यूपी शासन अरूण प्रकाश, आईजी पुलिस प्रवीण कुमार, डीएम के। बालाजी, जिलाधिकारी बागपत शकुंतला गौतम, एसएसपी अजय साहनी, प्रधानाचार्य एलएलआरएम डॉ। ज्ञानेन्द्र कुमार, डॉ। अशोक तालियान, डॉ। पीपीसिंह, सीएमओ डॉ। राजकुमार, एमएसवाई मेडिकल कॉलेज के जीएम डॉ। अश्वनी शर्मा सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.