आदेश हवा-हवाई, कॉलोनी से गुजरते हैं भारी वाहन

Updated Date: Thu, 26 Jan 2017 07:40 AM (IST)

साडा हक

- नो एंट्री के बाद भी लोकल रूट से गुजर रहे भारी वाहन

- सुविधा शुल्क लेकर दी जाती है भारी वाहनों को एंट्री

Meerut: भारी वाहन चालकों के सामने अधिकारियों के आदेश बौने साबित हो रहे हैं। या यूं कहिये कि सुविधा शुल्क के जरिए सारे यातायात के आदेश बेमानी से हो गए हैं। शहर में दर्जनों ऐसी कालोनियां व लिंक रास्ते हैं, जहां पर भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित है। लेकिन इसके बावजूद भी कॉलोनियों में भारी वाहनों को बे-रोक-टोक ले जाया जाता है। जिसके चलते शहर के कई इलाकों में लोग घंटो जाम में फंसे रहते हैं।

---------------------

शिव चौक रोड

शिव चौक रोड पर भारी वाहनों की एंट्री पूरी तरह से प्रतिबंधित है। लेकिन यहां हर रोज वाहन यहां से गुजरते हैं। आलम यह है कि टै्रफिक पुलिस उन्हें रोकने तक की जहमत नहीं उठाती। जिस कारण जाम से लोगों को परेशानी होती है।

-------------

के ब्लॉक कॉलोनी शास्त्रीनगर

शास्त्रीनगर की के-ब्लॉक कॉलोनी घनी आबादी का क्षेत्र है। लेकिन कुछ दुकानदारों की वजह से के-ब्लॉक में जाम की स्थिति बनी रहती है। हर रोज सैंकड़ों भारी वाहन गुजरते हैं। जिसके चलते कॉलोनी का एक किमी का सफर आधे घंटे से पहले तय नहीं होता। स्थानीय लोगों ने कई बार शिकायत की। लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।

माधवपुरम कॉलोनी

दिल्ली रोड से कनेक्ट माधवपुरम कॉलोनी में भी यही हाल है। ट्रांसपोर्ट नगर नजदीक होने की वजह से ट्रक कॉलोनी के अंदर घुस जाते हैं। जिसकी वजह से कॉलोनी के मुख्य रास्तों पर जाम लग जाता है। हालांकि कई बार दुर्घटनाएं भी हुई हैं। बावजूद इसके, प्रशासन ने कोई सार्थक कदम नहीं उठाया है।

------------------

नो योर राइट्स

-कॉलोनी में भारी वाहन घुसने पर 100 नंबर डायल कर सकते हैं

- निकटवर्ती पुलिस चेक पोस्ट पर शिकायत कर सकते हैं

- सीओ टै्रफिक ऑफिस में भी लिखित शिकायत कर सकते हैं

----------------

क्या कहते हैं स्थानीय लोग

एसपी टै्रफिक ने दिल्ली रोड को छोड़कर सभी लिंक रोड पर भारी वाहन प्रतिबंधित किए हैं। लेकिन कोई वाहनों को नहीं रोकता।

-अभिषेक कुमार

के-ब्लॉक में कुछ दिन पहले ट्रक की वजह से एक व्यक्ति का पैर टूट गया था। उसी समय एसपी टै्रफिक के यहां शिकायत भी की गई थी। लेकिन कुछ ही दिनों में सब भूल गए।

-लव खारी

ट्रकों ने कॉलोनी को नर्क बना दिया है। घर से निकलने के बाद मेन रोड तक पहुंचने पर कई बार आधे घंटे से भी ज्यादा समय लगता है।

-संजय

शहर में कहीं नो एंट्री नहीं है। पैसे लेकर पुलिस वाले भारी वाहन को गुजरने देते हैं.आदेश सिर्फ कागजों में धूल फांकते रहते हैं।

-पुलकित

वर्जन

शहर की किसी भी लिंक रोड या कॉलोनी में भारी वाहनों की एंट्री प्रतिबंधित है। यदि इसके बाद भी वाहन चालक नहीं मान रहे हैं, तो कार्रवाई निश्चित है।

-किरण यादव एसपी ट्रैफिक

--

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.