सांप्रदायिक बवाल के बाद पुलिस तैनात

Updated Date: Mon, 12 Oct 2020 10:48 AM (IST)

नौ लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट, चार को पुलिस ने जेल भेजा

एहतियात के तौर पर सुबह पुलिस ने नहीं खुलने दिया दुकानें

Meerut। शनिवार रात अब्दुल्लापुर में हुए सांप्रदायिक बवाल के बाद दोनों पक्षों के घरों के बाहर पुलिस तैनात है। एहतियात के तौर पर रविवार सुबह पुलिस ने क्षेत्र में दुकानें भी नहीं खुलने दी। दोपहर बाद दुकानें खुली, तब मोहल्ले में भी चहल-पहल हुई। वहीं, नौ लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज हुई है। दोनों पक्षों के चार लोगों को पुलिस ने जेल भी भेजा है।

चार को भेजा जेल

भावनपुर थाना क्षेत्र के अब्दुल्लापुर गांव में शनिवार रात हुए सांप्रदायिक बवाल के बाद पुलिस ने एहतियात के तौर पर बिलाल और सूरज के घर के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया था। सुबह के समय तो पुलिस ने दुकानें भी नहीं खुलने दी। हालांकि दोपहर के समय दुकानें खुल गई थी। इस मामले में पुलिस ने बिलाल, इमरान, अय्यूब, विनय, सिद्धार्थ, सूरज, इकबाल, हिम्मत, सूफियान और कई अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की थी। इनमें से बिलाल, इरफान, सूरज और सिद्धार्थ को जेल भेजने के साथ ही पुलिस फरार आरोपितों की तलाश में जुटी है। थाना प्रभारी रघुराज सिंह ने बताया कि अब तक चार आरोपियों को जेल भेजा जा चुका है। फरार आरोपियों की तलाश जारी है।

घरों में केवल महिलाएं

सांप्रदायिक बवाल के बाद पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए बवाल के आरोपी फरार हो गए हैं। घरों में सिर्फ महिलाएं हैं, जबकि अन्य पुरुष भी इधर-उधर हो गए हैं। रविवार को गली में भी सन्नाटा पसरा रहा। बेवजह घूम रहे लोगों को पुलिस ने घरों में वापस भेज दिया। बता दें कि अब्दुल्लापुर गांव काफी संवेदनशील है। यहां पर पूर्व में भी कई बार सांप्रदायिक तनाव हो चुका है। इसके चलते ही पुलिस पूरी सतर्कता बरत रही है। कहीं भी लोगों को एकत्र नहीं होने दिया जा रहा है।

सूरज और चाचा शराब तस्कर

ग्रामीणों ने बताया कि सूरज और उसका चाचा नरेश तस्करी की शराब लाकर गांव में बेचते हैं। कई बार दोनों जेल भी जा चुके हैं। इसको लेकर ग्रामीण विरोध भी करते हैं, लेकिन पुलिस की से¨टग के चलते सब कुछ चल रहा है। अब लोगों ने उसके चाचा के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है, ताकि गांव में शराब की तस्करी का काम बंद हो सके। उधर, पार्षद शौकत का कहना है कि रात में जब दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ था, तो मौके पर मौजूद दारोगा ने कार्रवाई नहीं की थी। इसके चलते ही मामला बढ़ गया था।

ये था मामला

अब्दुल्लापुर के खालसा मोहल्ला निवासी बिलाल का हुसैन चौक पर चिकन कॉर्नर है। शनिवार रात करीब नौ बजे गांव निवासी सूरज चिकन लेने गया था, लेकिन दुकान बंद हो चुकी थी। उसने बिलाल से चिकन देने के लिए कहा, जिस पर दोनों में कहासुनी हो गई थी। आसपास के लोगों ने मामला शांत करा दिया था। दोनों के घर भी आमने-सामने हैं। आरोप है कि सूरज साथी अंकित और सिद्धार्थ के साथ बिलाल के घर पहुंच गया था। जिसके बाद मारपीट, पथराव और फाय¨रग हो गई थी।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.