जाम से रही परेशानी, बसों में नहीं दिखी सावधानी

Updated Date: Tue, 04 Aug 2020 07:30 AM (IST)

फ्री सेवा के चक्कर में बिगड़ी रोडवेज की व्यवस्थाएं

सोशल डिस्टेंसिंग के नाम पर बसों में उमड़ी रही भीड़

सीट पाने के लिए महिलाओं को करनी पड़ी मशक्कत

Meerut। कोरोना संक्रमण के कारण भले ही देश और शहरों की दिनचर्या बदल गई हो लेकिन बहनों का प्यार कोरोना के इस खौफ पर भी हावी रहा और रक्षाबंधन के दिन शहर में जगह जगह सड़कों से लेकर बाजारों में जाम की स्थिति बनी रही। बाजारों में मिठाई की दुकानों से लेकर राखी की दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ गई। दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ उमड़ी रही इतना ही नही बहन भाई के प्रेम के प्रतीक इस त्योहार पर गत वर्षो की तरह ही बसों में इस साल भी सीट के लिए मारामारी रही। कुल मिलाकर इस रक्षाबंधन शहर की आबोहवा में कोरोना का असर कहीं दिखाई नही दिया।

पुलिस करती रही आराम

त्योहार पर व्यवस्था बनाए रखने के लिए सभी चौराहों से लेकर बाजारों में पुलिस की डयूटी लगाई गई थी लेकिन इसके बाद भी सोमवार को सुबह होते ही शहर में जाम लगना शुरु हो गया। जाम भी ऐसा वैसा नही घंटों लंबा जाम। शहर की कोई प्रमुख सड़क चौराहा या बाजार ऐसा नही था जहां जाम ना लगा हो। घंटों घंटों तक वाहन चालक जाम से निकलने की जुगत में जुटे रहे, लेकिन शहर में कही भी पुलिस व्यवस्था का असर दिखाई नही दिया। चौराहों पर ट्रैफिक पुलिस कर्मी होने के बाद जाम लगा रहा जाम लगने के बाद पुलिस कर्मी जाम खुलवाने में जुटे जिस कारण से परतापुर बाईपास से लेकर दिल्ली रोड, मैट्रो प्लाजा, घंटाघर, बेगमपुल, हापुड अड्डा आदि चौराहों पर जाम लगा रहा।

बाजारों में बिगड़ी व्यवस्था

वहीं कोरोना संक्रमण के चलते बाजारों में बनाई गई सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था भी सोमवार को धडाम हो गई। बाजार खुलते ही मिठाई से लेकर गिफट, राखी खरीदने के लिए ग्राहकों की भीड़ उमड़ पड़ी। बिना सोशल डिस्टेंसिंग के बाजारों में जमकर खरीददारी हुई। पुलिस भी त्यौहार को देखते हुए बाजारों की भीड को काबू करने में नाकाम रही। सबसे ज्यादा मिठाई की दुकानों पर भीड़ उमड़ी रही। दुकानों पर मास्क से लेकर गोले में खड़े रहने या रस्सी तक के नियम को अनदेखा किया गया।

रोडवेज के दावे हवा

रोडवेज का दावा था कि हर रूट पर अतिरिक्त बसों की व्यवस्था कर महिलाओं को सुविधाजनक यात्रा का लाभ दिया जाएगा। लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा 24 घंटे के लिए बसों में फ्री सेवा की घोषणा होते ही सोमवार सुबह से महिला यात्रियों की संख्या रोडवेज पर बढ़ना शुरु हो गई और बसों में सीट के लिए महिला यात्री जमकर दौड लगाते हुए दिखी।

फ्री सेवा के चक्कर में भीड़

दरअसल शनिवार देर रात को प्रदेश सरकार द्वारा हुए महिला यात्रियों के लिए सोमवार को फ्री सेवा की घोषणा की गई थी। जिसके चलते रविवार को अधिकतर महिला यात्रियों ने सफर से दूरी बना ली। अधिकतर लोकल यात्री आसपास के जनपदों में जाने वाली महिला यात्रियों ने फ्री के चक्कर में सोमवर को ही बसो में सफर किया। जिस कारण से सोमवार को बसो में यात्रियों की भरमार हो गई। हर रूट पर रोडवेज द्वारा अतिरक्ति बसों की व्यवस्था की गई थी लेकिन इसके बाद भी बसों की कमी रही.नोएडा, गाजियाबाद, सहारनपुर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मुरादाबाद, गजरौला, शामली, बागपत जाने वाली बसों में सबसे अधिक भीड़ रही। रोडवेज ने दावा किया था कि बस की क्षमता के हिसाब से सवारी बैठाइ जाएगी वह नियम में उड़ गया। बसों को ओवर लोड करके संचालित किया गया।

रोडवेज पर तैनात रही पुलिस

भैंसाली बस डिपो पर यात्रियों की भीड़ को देखते हुए सोमवार को सदर पुलिस ने बस डिपो पर जाकर व्यवस्था को सुचारु कराया। इस दौरान लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग समेत बस डिपो पर संदिग्ध लोगों व समान की चेकिंग भी की गई। लेकिन इसके बाद भी डिपो पर यात्रियों को असुविधा का शिकार होना पड़ा।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.