मंदिरों में नहीं, घर पर करें महादेव की आराधना

Updated Date: Sun, 19 Jul 2020 01:02 PM (IST)

मंदिरों को प्रशासन ने नहीं दी अनुमति, सिर्फ पुजारी करेंगे पूजा-अर्चना

शिवरात्रि के तहत शहर के मंदिरों में की गई सजावट

Meerut। कोरोना का असर सावन की शिवरात्रि पर भी पड़ा है हालत यह है कि बीते वर्षो में शहर में जहां कांवड़ की रौनक दिखती थी, आज वहां सन्नाटा पसरा है। हालांकि, आज यानि रविवार को शिवरात्रि है। संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन ने मंदिरों को खोलने की अनुमति नहीं दी है। श्री बाबा औघड़नाथ मंदिर में मंदिर के बाहर ही मेन गेट पर पुलिस तैनात है। हालांकि, पहले मंदिर के बाहर जो पूजा अर्चना की व्यवस्था की गई थी उसे भी हटा दिया गया है। वहीं, सदर स्थित विल्वेश्वर महादेव मंदिर, केसरगंज झाड़खंडी महादेव मंदिर के कपाट भी बंद है। अधिकांश मंदिरों के बाहर पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए हैं। हालांकि, शनिवार और रविवार को कंप्लीट लॉकडाउन के कारण भी प्रशासन ने अनुमति नहीं दी है। शहर के मंदिरों में सिर्फ पुजारियों के द्वारा ही पूजा-अर्चना की जाएगी।

बाहर की व्यवस्था नहीं

श्री बाबा विल्वेश्वरनाथ मंदिर समिति के महामंत्री सतीश सिंघल ने बताया कि मंदिर में सजावट, फूलों व लाइट्स से सजाया गया है। चारों पहर की आरती भी वैसे ही होगी जैसे हर बार की जाती है। मंदिर के बाहर से भक्त दर्शन करके जा रहे थे, हमने उनके लिए बाहर ही जल चढ़ाने की व्यवस्था की थी उसके लिए एक बर्तन रखा था, लेकिन प्रशासन ने वो हटवा दिया है। पुजारी श्रीधर त्रिपाठी ने बताया कि सुबह पांच बजे, शाम सात बजे, रात को 11 बजे और रात को एक बजे चारों पहर की आरती पूरे विधि विधान से होगी। विल्वेश्वरनाथ मंदिर के पुजारी हरिशचंद जोशी ने बताया कि मंदिर को खोलने की अनुमति नहीं मिली है।

नहीं होगा कमलदल से श्रृंगार

औघड़नाथ मंदिर में सावन के हर सोमवार को पंचमुखी महादेव मंदिर का 108 कमल पुष्पों से श्रृंगार होता है। पुजारी श्रीधर त्रिपाठी ने बताया कि बाहर से पुष्प नहीं आ रहे हैं जिसके चलते कमल पुष्पों से श्रृंगार नहीं हो सकेगा। मंदिर परिसर में लगे फूलों से ही शिवरात्रि पर पूजा होगी।

मंदिर के कपाट बंद रहेंगे

सूरजकुंड सती मंदिर के पुजारी श्रवण कुमार शास्त्री ने बताया कि रविवार को पुलिस की टीम ने मंदिर का निरीक्षण किया और आमजन के लिए मंदिर के कपाट बंद रखने के निर्देश दिए, साथ ही नोटिस भी चस्पा किया है। वहीं दिल्ली रोड के नागेश्वर मंदिर के पुजारी अरुण ने बताया की मंदिर नहीं खुलेगा पुलिस की अनुमति नहीं है।

ये है शिवरात्रि पूजा मुहूर्त

लाभामृत योग- सुबह 9.1 से दोपहर 12.27 तक

अभिजीत मुहूर्त- सुबह 10.44 से दोपहर 12.54 तक

शुभ योग- दोपहर 2.10 बजे से दोपहर 3.53 तक

शुभामृत योग- शाम 7.19 बजे से रात 9.53 बजे तक

पं। श्रीधर त्रिपाठी के अनुसार सावन शिवरात्रि के दिन बाद घर के मंदिर में दीप जलाएं।

घर में ही शिवलिंग का गंगाजल से अभिषेक करें

गंगा जल न होने पर साफ जल से भी जलाभिषेक कर सकते हैं।

जिनके घर में शिवलिंग नहीं है वो भोले बाबा का ध्यान करें।

पूजा अर्चना के बाद भगवान शिव की आरती करें।

इस बात का रखें ध्यान

पं। हरिश्चंद जोशी के अनुसार शिवरात्रि के दिन काले वस्त्र न पहनें। न ही खट्टी चीजों का सेवन करें। पूरा दिन व्रत कर शाम को भगवान शंकर और माता पार्वती की आरती करें। दीप जलाने के बाद व्रत को खोलें।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.