शिल्प मेला में झमेला

Updated Date: Fri, 03 Nov 2017 07:00 AM (IST)

-पीएम के संसदीय क्षेत्र में कश्मीरी कारोबारी की पिटाई, शिल्प मेला में धांधली का आरोप लगाने पर बिचौलियों ने पीटा

-दस दिवसीय शिल्प मेला में नहीं थम रहा आंवटन का विवाद

VARANASI

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में कश्मीर से कारोबार करने आए दो कारोबारियों की गुरुवार को सांस्कृतिक संकुल में पिटाई कर दी गई। इसे लेकर जम्मू कश्मीर, श्रीनगर सहित अन्य प्रांतों से आए दुकानदारों में काफी रोष है। स्वर्गीय गिरिजा देवी सांस्कृतिक संकुल चौकाघाट में चल रहे दस दिवसीय गांधी शिल्प मेला में दुकान आवंटन को लेकर शिल्पियों व बिचौलिए के बीच शुभारंभ वाले दिन भी झड़प हुई थी, लेकिन यह झड़प दूसरे दिन मारपीट में तब्दील हो गई। आसपास के दुकानदारों ने बीच-बचाव कराकर किसी तरह मामले को शांत कराया। हालांकि तनाव की स्थिति अब भी बरकरार है। कैंपस में दुकानदारों से अधिक बिचौलियों की संख्या मेला में झमेला खड़ा कर रहा है।

अधिकारियों से शिकायत पर हुई पिटाई

हुआ यूं कि शिल्प मेला में कश्मीर, श्रीनगर सहित दूर-दराज से आए कई शिल्पियों को दुकानें नहीं मिली। दोपहर करीब एक बजे इसकी कम्प्लेन लेकर कैंपस स्थित ऑफिस में भी गए। कश्मीर के जुनैद व शब्बीर का आरोप है कि दुकान के लिए वे चार दिन से ऑफिस का चक्कर लगा रहे हैं। दोपहर में कैंपस स्थित ऑफिस में पहुंचकर शिल्प कार्ड दिखाया। बावजूद इसके दुकानें नहीं दी गई। कहा गया कि सब स्टाल बुक हो चुके हैं। अभी कहासुनी हो ही रही थी कि तब तक ऑफिस में बैठे बिचौलिए धक्का देकर भगाने लगे। जुनैद का कहना है कि उच्चाधिकारियों से शिकायत करने की बात पर उनकी पिटाई करने लगे।

ख्भ् से फ्0 हजार में बेच रहे दुकान

जुनैद व शब्बीर का कहना है कि ऐसा पहली बार हो रहा है कि दूर-दराज से आए शिल्पियों को दुकान के लिए परेशान किया जा रहा है। जबकि सरकार दुकानों का आवंटन नि:शुल्क करती है। मगर यहां कुछ लोग ख्भ् से फ्0 हजार में दुकानों को बेच रहे हैं। दुकान आवंटन के लिए पैसे मांगे जा रहे हैं। विरोध करने पर मारपीट कर रहे हैं। श्रीनगर के फरहान का कहना है कि पीएम मोदी कहते है कि सभी को रोजगार मिलेगा लेकिन यहां पर रोजगार विभागीय अधिकारी छीन रहे हैं। इसकी शिकायत विभाग के उच्चाधिकारियों से करेंगे।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.