सर्जिकल स्ट्राइक नहीं, पाक से फुल वार होना चाहिए

Updated Date: Wed, 27 Feb 2019 11:07 AM (IST)

-आर्मी के रिटायर्ड अफसरों ने एयरफोर्स के साहसिक कदम को सराहा

-बनारस समेत पूरे देश में सेना की हो रही जय-जय

 

vinod.sharma@inext.co.in

VARANASI : शहीद अवधेश सिंह और रमेश यादव के त्रयोदशाह कार्यक्रम से एक दिन पहले भारतीय वायुसेना ने पाक में घुसकर तीन सौ आतंकियों को मार गिराया। इस सर्जिकल स्ट्राइक की खबर मीडिया में आते ही बनारस समेत पूरे देश में सेना के इस साहसिक कदम की जय-जय होने लगी। एयर फोर्स के इस पराक्रम पर सेना के रिटायर्ड अधिकारी कहते हैं कि ऐसे ही कार्रवाई का इंतजार था। वैसे तो सर्जिकल स्ट्राइक नहीं, बल्कि पाकिस्तान का सफाया होना चाहिए। इस कार्रवाई पर दैनिक जागरण आई नेक्स्ट रिपोर्टर ने आर्मी के रिटायर्ड अफसरों से उनका व्यू जाना।

 

पाकिस्तान के साथ फुल वार होना चाहिए। यह तो भारतीय वायुसेना का ट्रेलर है। पूरे पाकिस्तान से आतंकियों और उनके आका को खदेड़ने की जरूरत है। लम्बे समय से मौन रही वायु सेना के पायलटों के शरीर में जंग लग रही थी। जरूरत पड़ने पर इससे भी बड़ी कार्रवाई वायु सेना को करनी पड़ेगी।

सतीश चंद्र मिश्रा, रिटायर्ड विंग कमांडर

 

 

एक कहावत है कि लातों के भूत बातों से नहीं मानते हैं। पाकिस्तान भी ऐसा ही है। वह कहते हैं कि पाकिस्तान न तो माफी के लायक है और न ही बातचीत के लायक है। वायु सेना ने मंगलवार तड़के जो कार्रवाई की है, वह उसी के लायक है। सेना को बहुत पहले ही यह कार्रवाई कर देनी चाहिए थी। भारत ने लम्बे समय तक धैर्य का परिचय दिया।

एमए अंसारी, रिटायर्ड मेजर

 

 

देश के लिए यह अच्छी खबर है। बार-बार एक्सपोज होने के बावजूद पाक अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा था। पाक में घुसकर आतंकियों पर भारतीय वायुसेना ने जो कार्रवाई की है, उससे हर भारतीय का सीना चौड़ा हो गया है। जब हमारे देश का कोई जवान शहीद होता है तो हम तड़प कर रहे जाते हैं। बदला लेने की इच्छा सीने में ही दफन हो जाती है। सेना कभी रिटायर्ड नहीं होती है।

एम खान, रिटायर्ड कर्नल

 

सबसे पहले एयर फोर्स के जवानों को सैल्यूट किया। कहा कि पाक को नेस्तानाबूद कर दिया जाना चाहिए। सेना ने अभी तो तीन सौ आतंकियों को मार गिराया, जो पुलवामा हमले का बदला है। जब भी पाक की ओर से गोलीबारी हो, तब-तब ऐसी कार्रवाई भारतीय वायु सेना को करने की जरूरत है। पाक तो बेशर्म देश है, ऐसी कार्रवाई से उसकी सेहत पर बहुत फर्क नहीं पड़ेगा।

चंद्रदेव मिश्रा, रिटायर्ड कर्नल

 

पुलवामा में शहीद 42 सीआरपीएफ जवानों का यह बदला है। इस कार्रवाई से सेना के साथ सीआरपीएफ का हर जवान गर्व महसूस कर रहा है। वायुसेना ने कार्रवाई कर देश में अच्छा संदेश दिया है। ऐसी कार्रवाई समय-समय पर होते रहनी चाहिए, ताकि आतंकवाद का सम्पूर्ण नाश हो सके।

नरेंद्र पाल सिंह, सीआरपीएफ कमांडेंट, 95 बटालियन

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.