बदल दो आदत, नहीं तो हो जाएगी आफत

Updated Date: Sun, 01 Sep 2019 06:00 AM (IST)

-आज से ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर देना होगा कई गुना अधिक जुर्माना

-बनारस में हर रोज औसतन दो हजार लोग तोड़ते हैं नियम

बनारस वालों अपनी टै्रफिक रूल्स तोड़ने की अपनी आदत को बदल लो। एक सितम्बर से नियम और सख्त हो गए हैं। रूल्स तोड़ने पर जुर्माना में भारी बढोत्तरी हो गयी है। रेड सिग्नल पर नहीं रूकना, बिना हेलमेट के बाइक ड्राइव करना और सीट बेल्ट लगाए बिना कार चलाना सहित तमाम नियमों की अनदेखी जेब पर भारी पड़ेगी। इसका अंदाजा ऐसा लगाया जा सकता है कि पहले जहां हेलमेट नहीं पहनने पर 200 जुर्माना लगता था अब 1000 चुकाना होगा, साथ ही तीन माह तक ड्राइविंग लाइसेंस सस्पेंड कर दी जाएगी। यही नहीं, एंबुलेंस को रास्ता नहीं देने पर 10000 जुर्माना वसूला जाएगा। बिना डीएल के ड्राइविंग करने पर 500 की बजाय अब 5000 जुर्माना वसूला जाएगा। नाबालिग द्वारा वाहन चलाए जाने पर 25000 जुर्माना व तीन साल की सजा, वाहन का रजिस्ट्रेशन कैंसिल सहित गाड़ी के मालिक व नाबालिग के अभिभावक दोषी माने जाएंगे। नाबालिग को 25 साल की उम्र तक लाइसेंस भी जारी नहीं होगा।

खूब तोड़ते हैं नियम

204,635

लोगों ने इस वर्ष आठ महीनों में तोड़ा टै्रफिक रूल

01

करोड़ रुपये जमा किया गया जुर्माना जुलाई माह तक

40

लाख रुपये जमा हुआ शमन शुल्क सिर्फ अगस्त माह में

2341

चालान जनवरी माह में

10801

चालान फरवरी माह में

18747

चालान मार्च में

27102

चालान अप्रैल में

21712

चालान मई में

34123

चालान जून में

50917

चालान जुलाई में

38, 892

चालान अगस्त माह में 20 तारीख तक

सवा लाख नहीं लगाते हेलमेट

बनारस में हेलमेट नहीं पहनने वालों की संख्या काफी अधिक है। इतने ट्रैफिक अवेयरनेस के बाद भी हेलमेट पहनकर वाहन चलाने वालों की कमी है। जनवरी से 20 अगस्त तक 130257 वाहन चालकों के खिलाफ सिर्फ हेलमेट नहीं पहनने की कार्रवाई की गई। इनसे जुर्माना के रूप में 36 लाख 30 हजार रुपये वसूल किए गये।

ट्रैफिक रूल्स फॉलो कराने के लिए लगातार अवेयरनेस कैंपेन चलाए जा रहे हैं। बावजूद लोगों में जागरुकता नहीं आ रही है। ऐसे लोगों पर ई-चालान से लगातार कार्रवाई भी की जा रही है। अब तो नियम और भी सख्त हो गए है।

श्रवण कुमार सिंह, एसपी टै्रफिक

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.