पूर्व विधायक के सिरफिरे बेटे ने महिला डॉक्टर की बेरहमी से की हत्या, खून से लथपथ पहुंचा पुलिस के पास, बोला- हमेशा देती थी नपुंसक का ताना, खोल डाला सिर

बनारस में बुधवार को एक ऐसी घटना हुई जिसने लोगों के रोंगटे खड़े कर दिये। महमूरगंज मार्ग स्थित संत रघुवर नगर कालोनी में कैंसर विशेषज्ञ डॉ। सपना गुप्ता दत्ता अपने क्लिनिक में थी। अचानक उनका देवर अनिल आया, उसके हाथ में हथौड़ा था। उसने ताबड़तोड़ अपनी भाभी के सिर पर हथौड़ा मारना शुरू कर दिया। उसके बाद कैंची से कई वार किये। खून से पूरे क्लिनिक का फर्श लाल हो गया। उसके हाथ और पांव खून में पूरी तरह सन चुके थे। वह पैदल चलकर सिगरा थाने पहुंचा और बोला कि मैंने अपनी भाभी को मार डाला।

नपुंसक और नफरत के बीच केस

पुलिस के पास जाकर उसने अपना जुर्म कबूला। उसने जो बताया, उस पर पुलिस भी विश्वास नहीं कर पा रही है। उसका कहना था कि भाभी को मारने की वजह सिर्फ इतनी कि वे हमेशा मुझे नपुंसक का ताना मारती रहती थी। आज भी उन्होंने ताना मारा तो मैंने उन्हें मार डाला। पुलिस के पास एक कहानी एक दिन पुरानी भी है। उसमें अनिल और सपना का संपत्ति को लेकर झगड़ा होता है और दोनों थाने में आवेदन देते हैं। ऐसे में यह जांच की विषय की मौत की वजह नपुंसक का ताना था या नफरत। आपको बता दें अनिल कांग्रेस के पूर्व विधायक डा। रजनीकांत दत्ता का पुत्र है। इस घटना के बाद डीसीपी विक्रांत वीर ने नगर निगम चौकी प्रभारी हरिश्चंद्र को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है।

बीमार है कातिल

देश के जाने माने मनोचिकित्सक डॉ। विवेक विशाल का कहना है कि अनिल एक मरीज है। ऐसा आदमी तभी करता है जब उसके अंदर बहुत गुस्सा हो। आम आदमी खून देखकर घबरा जाता है। लेकिन अनिल मरने के बाद भी अपनी भाभी को मारता रहा, यह उसके अंदर का गुस्सा था। अगर उसका समय पर मनोचिकित्सक के पास इलाज हुआ होता तो शायद आज वो कातिल नहीं बनता।

Posted By: Inextlive