सिटी में 10 दिन में शुरू होंगे 30 पार्किंग स्थल

2017-06-04T07:41:14Z

पीडब्ल्यूडी और पुलिस विभाग ने मिलकर स्पॉट किए तय

-एमडीडीए और नगर निगम मिलकर चलाएंगे पार्किग

-प्राइवेट वाहनों से लिया जाएगा पार्किग शुल्क

-विक्रम और ऑटो के लिए तिराहों और चौराहों पर होगी मुफ्त पार्किग

-----------

--शहर में करीब 7 लाख गाडि़यां रोज गुजरती हैं

--इनमें से करीब ढाई लाख प्राइवेट गाडि़यां औसतन शहर में चलती हैं

---करीब 50 हजार गाडि़यां एक जंक्शन पर आती हैं

--270 सिटी बस, 1200 के करीब विक्रम और 3 हजार के करीब कॉमर्शियल वाहन, लोडर दौड़ते है

pavan.nautiyal@inext.co.in

DEHRADUN: पुलिस विभाग और पीडब्ल्यूडी की मुहिम रंग लाई तो शहर में अब पार्किग की समस्या से जल्द निजात मिलने की उम्मीद है। मिशन अतिक्रमण के तहत पहले फेज में शहर में सड़कों के किनारे तीस से अधिक ऐसे स्पॉट तय कर लिए गए हैं जहां पार्किग की जा सकती है।

कुछ पार्किंग फ्री तो कुछ होंगी पेड

शहर को जाम और अतिक्रमण से निजात दिलाने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। प्रशासन के अलावा सारे विभाग मिलकर राज्य सरकार के मिशन अतिक्रमण को पूरा करने और जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए होमवर्क पूरा कर चुके हैं। पीडब्ल्यूडी और पुलिस विभाग ने मिलकर फ्0 से ज्यादा जगहों पर पार्किंग के लिए जगह तलाशकर सूची तैयार कर ली है। इन पार्किंग को चलाने का जिम्मा अब एमडीडीए और नगर निगम का होगा, जिसमें से कुछ पार्किंग पेड तथा कुछ फ्री होंगी। सड़क के किनारे जिन जगहों पर छोटी-छोटी पार्किंग बनाई जाएगी उन जगहों को पेड रखा जाएगा, जबकि तिराहों और चौराहों पर बनाए जानी वाली पार्किंग को फ्री किया जाएगा, यहां पर शहर के विक्रम और बसों को पार्क करने की छूट होगी। फिलहाल विक्रम और शेयर्ड ऑटो को पार्किंग में फ्री पार्क करने की सुविधा देने की बात की जा रही है। इसके अलावा सड़क किनारे छोटी-छोटी जगहों पर वाहनों को खड़ा करने के लिए पेड पार्किंग की व्यवस्था की जाएगी, जिसका चार्ज भ् रुपए तक रखे जाने पर विचार किया जा रहा है।

लाखों वाहनों का दबाव

आपको बताते चलें कि राजधानी में रोजाना करीब भ्0 हजार गाडि़यां एक जंक्शन पर आती हैं, जबकि करीब 7 लाख गाडि़यां रोज शहर से गुजरती हैं। जिसमें से करीब ढाई लाख प्राइवेट गाडि़यां औसतन शहर में चलती हैं। इसके अलावा ख्70 सिटी बस, क्ख्00 के करीब विक्रम और फ् हजार के करीब कॉमर्शियल वाहन, लोडर भी दौड़ते हैं। ऐसे में शहर की सड़कों पर ट्रैफिक का भारी दबाव रहता है, जिससे अक्सर राजधानी में जाम जैसी स्थिति हो जाती है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने शहर की हालत सुधारने और जाम से निजात दिलाने के लिए अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाने और पार्किंग बनाने के निर्देश दिए हैं, जिसके बाद प्रशासन ने जगह चिन्हित कर पार्किंग स्थल बनाने का निर्णय लिया है।

------

पुलिस और पीडब्ल्यूडी ने मिलकर फ्0 से ज्यादा स्थल पार्किग के लिए चिन्हित किए हैं। इनकी सूची तैयार कर ली गई है। सड़क किनारे भी वाहनों को पार्क करने के लिए पेड पार्किग की व्यवस्था की जा रही है।

धीरेन्द्र गुंज्याल, एसपी ट्रैफिक

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.