44 नदियों के किनारे लगेंगे 825 लाख पौधे

2019-07-08T06:00:42Z

RANCHI: नदियों के संरक्षण की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए इस वर्ष भी राज्य के सभी 24 जिलों में 44 नदियों के 64 स्थानों के किनारे 274 किमी में 8.25 लाख पौधे लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रविवार को रांची के कांके में जुमार नदी के किनारे पौधा लगाकर जल शक्ति को समर्पित नदी महोत्सव सह वृक्षारोपण अभियान का शुभारंभ किया, जिसमें बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों ने भी हिस्सा लिया। यह अभियान एक माह तक चलेगा। मुख्यमंत्री ने राज्य के प्रत्येक नागरिक से एक-एक पौधा लगाने और उसके संरक्षण की अपील की। कहा, जल, जंगल, जमीन और जलवायु हमारी अमानत है। इसका संरक्षण करना हमारा कर्तव्य।

5 साल में बढ़ा वन क्षेत्र

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने वन एवं पर्यावरण विभाग, वन समितियों और आम लोगों के प्रयासों की सराहना की। आंकड़ों का हवाला देकर कहा कि सभी के प्रयासों से ही वर्ष 2014 की तुलना में झारखंड में 0.29 प्रतिशत वन क्षेत्र की वृद्धि हुई है। जबकि अन्य राज्यों में वन घट रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें झारखंड को वनों से आच्छादित पहला राज्य बनाना है। सरकार की मंशा बिल्कुल स्पष्ट है। सरकार जो भी विकास कार्य करेगी उसमें प्रकृति के संरक्षण का विशेष ध्यान रखा जाएगा। हम सभी को पता है कि बारिश वहीं होती है, जहां पेड़ होते हैं। पेड़ नहीं होंगे तो वर्षा नहीं होगी और वर्षा नहीं होगी तो फसल नहीं होगी।

आप भी जरूर लगाएं पौधे

मुख्यमंत्री ने राज्य के निवासियों से इस अभियान से जुड़ने की अपील करते हुए कहा, एक-एक पौधा जरूर लगाएं और सप्ताह में एक दिन श्रम दान करें। अपने लगाए पौधे की रक्षा करें उसे सूखने न दें। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने वन विभाग की 2018 वृक्षारोपण कार्यक्रम से संबंधित लघु पुस्तिका का विमोचन किया। कार्यक्रम में पद्मश्री मुकुंद नायक ने भी अपनी प्रस्तुति दी। मुख्यमंत्री ने भी मांदर की थाप देकर इस अभियान को सांस्कृतिक उत्सव का रूप दिया। मौके पर मुख्य रूप से रांची सांसद संजय सेठ, कांके विधायक जीतू चरण राम, खिजरी विधायक रामकुमार पाहन, मुख्यसचिव डीके तिवारी, अपर मुख्य सचिव वन एवं पर्यावरण विभाग इंदु शेखर चतुर्वेदी, पीसीसीएफ संजय कुमार, राजस्व सचिव केके सोन, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल, रांची उपायुक्त राय महिमापत रे, वरीय पुलिस अधीक्षक अनीश गुप्ता, उपमहापौर संजीव विजयवर्गीय सहित बड़ी संख्या में स्कूली बच्चे उपस्थित थे।

प्रकृति का साथ हो विकास: सीएस

मुख्यसचिव डीके तिवारी ने कहा कि अब विकास के मायने बदल रहे हैं। बड़े-बड़े भवन बना देना ही विकास नहीं, बल्कि प्रकृति के साथ विकास करना सही मायने में विकास है। कहा, प्रधानमंत्री इस अभियान को और गति देने के लिए कैम्पा योजना के तहत 4100 करोड़ की राशि उपलब्ध करा रहे हैं।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.