वास्तु टिप्स: मन स्थिर नहीं रहता, एकाग्रता की कमी है तो अपनाए ये आसान उपाय

Updated Date: Thu, 06 Dec 2018 11:10 AM (IST)

आज सफलता भी तो हमारे लिए हुए फैसलों से ही आती है। फिर यह भी जरूरी नहीं कि हम क्या कर रहे हैं? मतलब जॉब या बिजनेस पर यह भी तभी होगा जब हम इस बारे मे सोचेंगे और सोचने के बाद वास्तु वाइब्स सही होंगी अपने संतुलन में होंगी।

आज हम जहां भी रहते हैं वहां की वास्तु वाइब्स का संतुलित होना अच्छा होता है। क्योंकि हमारी सफलता और असफलता के पीछे इसका बहुत बड़ा योगदान होता है। मित्रों हम कहीं भी रहें, कैसे भी रहें फिर वह चाहे बंगला हो या फ्लैट हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। जरूरी यह है कि वास्तु वाइब्स का हमें साथ मिले।

कई बार लोग कहते हैं कि हमारा कर्म भी हम कर रहे हैं पूरी मेहनत के साथ फिर भी हमें जीवन में सही परिणाम नहीं मिले। बस यही, इसी जगह थोड़ी सजगता की जरूरत है। यह तो देखें और सोचें की यह क्यों हो रहा है हमारे जीवन में और क्या कारण हो सकता है इसके पीछे? आज सफलता भी तो हमारे लिए हुए फैसलों से ही आती है। फिर यह भी जरूरी नहीं कि हम क्या कर रहे हैं? मतलब जॉब या बिजनेस, पर यह भी तभी होगा जब हम इस बारे मे सोचेंगे और सोचने के बाद वाइब्स सही होंगी, अपने संतुलन में होंगी।

यहां यह जरूरी नहीं है कि हम इस बारे में क्या सोचते हैं। इसे थोड़ा सा समझने और मानने वाली दृष्टि से देखेंगे तो परिणाम भी जीवन में मिलेंगे। जैसे घर की रोजाना की एक गतिविधि है पूजा करना। कहने को यह बहुत छोटी बात है कि अपने घर में यह हम कहीं भी, कैसे भी कर सकते हैं, पर यह भी जब घर में अपने सही स्थान पर होगी तब ही हमें इसका सही फल अपने जीवन में मिलेगा। या यूं भी कह सकते हैं कि तभी हमारा पूरी तरह पूजा करने में मन भी लगेगा।

पूजा घर के लिए उचित दिशा

पूजा घर उत्तर पूर्व दिशा में होनी चाहिए। इससे पूजा में हमारा मन भी लगेगा। यह महत्वपूर्ण नहीं कि हम किस देवी-देवता की पूजा कर रहे हैं। हां, अगर स्थान सही ना हो तो घर में या कार्यालय में हमें मानसिक परेशानी भी हो सकती है। यह ध्यान रखें कि घर में यह स्थान साफ-सुथरा हो और वहां कोई हिंसक तस्वीर या कैलेंडर ना लगा हो।

एकाग्रता के लिए चुनें ये दिशा

यदि उत्तर पूर्व की तरफ असंतुलन होगा तो हम किसी के भी बारे में बहुत गहराई से नहीं सोच पाएंगे। इस तरफ भी हमारा ध्यान नहीं जाएगा कि क्या हम बेहतर कर सकते हैं। घर के इसी कोने में हम अपनी ध्यान साधना भी कर सकते हैं। हमारी ध्यान साधना भी घर के किसी और हिस्से की बजाय यहां ज्यादा बेहतर होगी। यहां किया हुआ ध्यान हमें प्रगाढ़ता देगा। पूरा दिन हम अपनी सकारात्मक ऊर्जा के साथ बने रहेंगे और यही गतिविधि यदि हम घर में कहीं और करेंगे तो उसमें गहराई का अभाव होगा और हमें अपने प्रयास भी अधिक करने पड़ेंगे।

ऐसा करने से बच्चों का भी पढ़ाई में लगेगा मन

घर में यदि बच्चे उत्तर पूर्व दिशा में पढ़ेंगे तो उनका मन भी अपनी पढ़ाई में लगेगा और धीरे-धीरे एकाग्रता भी आने लगेगी। जीवन में हम जिस भी क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं, उसमें हमारे द्वारा लिए फैसले भी सही और लाभदायक साबित होंगे।

यदि हम इन वाइब्स के प्रति सजग होंगे तो हमें इनका लाभ भी अपने जीवन में सफलता के रूप में देखने को मिलेगा।

वास्तु टिप्स: ये पौधे घर में लगाने से लव लाइफ होगी और शानदार, टेंशन जाएंगे भूल

घर, दुकान या ऑफिस वास्तु के अनुकूल न हों, तो जानें क्या पड़ता है प्रभाव

Posted By: Kartikeya Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.