खाली पड़े स्कूलों में बनेंगे वेटनरी हॉस्पिटल

2019-07-13T06:00:42Z

JAMSHEDPUR: उपायुक्त कार्यालय में शुक्रवार को कृषि, पशुपालन, मत्स्य एवं गव्य विकास विभाग की समीक्षा बैठक हुई। इसमें पशुपालन विभाग के कायरें की समीक्षा करते हुए उपायुक्त रविशंकर शुक्ला ने कहा कि जिले में एक पशु (वेटनरी) अस्पताल ऐसा हो, जो चौबीस घंटे खुला रहें। जिला शिक्षा पदाधिकारी या जिला शिक्षा अधीक्षक से वार्ता कर जमशेदपुर में किसी खाली पड़े सरकारी स्कूल भवन को चिह्नित करें, जिसमें जिलास्तर का एक उच्चस्तरीय वेटनरी अस्पताल बनाया जा सकें। कार्यालय अवधि में कोई चिकित्सक प्राइवेट प्रैक्टिस नहीं करें। एएनएम तथा स्वयंसेवी समूह (एसएचजी) की महिलाओं में स्वास्थ्य सहिया को वैकल्पिक व्यवस्था के तहत गाय, बकरी, मुर्गी पालन के लिए प्रशिक्षण दें। जिससे वे दूसरों की मदद कर सकें। जिन क्षेत्रों में दुग्ध उत्पादन ज्यादा है, वहां संग्रहण केंद्र बनाएं। इसके अतिरिक्त मत्स्य एवं गव्य विकास विभाग के कायरें की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने कार्ययोजना बनाकर कार्य में तेजी लाने एवं लंबित फाइलों का अतिशीघ्र निपटारा करने का निर्देश दिया। इस अवसर पर अपर उपायुक्त, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला मत्स्य पदाधिकारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी आदि उपस्थित थे।

हर किसान को स्मार्टफोन खरीदना अनिवार्य

कृषि विभाग को निर्देश दिया कि वे मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना से एटीएम (एग्रीकल्चर टेक्नोलाजी मैनेजर) व बीटीएम (ब्लॉक टेक्नोलाजी मैनेजर) को संबद्ध करें तथा योग्य लाभुकों के नए आवेदन सृजित करने में अंचल अधिकारी की मदद करें। फार्म-डी व फार्म-ई ज्यादा से ज्यादा लोगों से भराएं। आदिम जनजाति सबर, एसटी, एससी तथा अन्य पिछड़ी जाति के ज्यादा से ज्यादा किसानों को इस योजना का लाभ पहुंचाएं। उपायुक्त ने कहा कि किसानों को स्मार्टफोन से लैस करना है, इसलिए यह सुनिश्चित कराएं कि राशि लेने के बाद किसान स्मार्टफोन खरीदें। जिला स्तर पर चैंबर ऑफ फार्मर्स का गठन करें, जिसमें कम से कम 50 सदस्य होने चाहिए। स्वॉयल हेल्थ कार्ड योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए एटीएम व बीटीएम को प्रशिक्षण दें तथा ये सुनिश्चित करें कि वे जमीनी स्तर पर नमूना एकत्र करें। ज्यादा सैम्पल लाने वालों को प्रशस्ति पत्र व पुरस्कार देकर सम्मानित करें।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.