हैप्पी बर्थडे विनोद कांबली मैदान में बैटिंग के दौरान उडा़या करते थे पंतग नहीं मानते थे सचिन की बात

2019-01-18T08:30:17Z

पूर्व भारतीय क्रिकेटर विनोद कांबली का आज 47वां जन्मदिन है। कांबली आैर सचिन ने बचपन में एक साथ क्रिकेट की ट्रेनिंग ली थी। दोनों की बचपन की कर्इ यादें हैं। आइए आज इस खास मौके पर उन यादों को फिर से ताजा करते हैं

कानपुर। 18 जनवरी 1972 को मुंबर्इ में जन्में विनोद कांबली ने जब क्रिकेट खेलना शुरु किया तो उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से होती थी। सचिन आैर कांबली के गुरु एक ही थे, आचरेकर सर। कोच आचरेकर ने जितने गुर सचिन को दिए उतने ही कांबली को, मगर तेंदुलकर क्रिकेट के भगवान बन गए वहीं कांबली गुमनामी में खो गए। कांबली ने अपने इंटरनेशनल करियर का आगाज काफी शानदार तरीके से किया था, मगर विवादों के चलते उनका करियर लंबा नहीं खिंच सका। खैर कांबली आैर सचिन की बचपन में कर्इ खट्टी-मीठी यादें रही हैं। आइए उन यादों का याद करते हैं।
बल्ला छोड़ उड़ाने लगे पतंग

सचिन तेंदुलकर आैर विनोद कांबली मुंबर्इ में रहा करते थे। दोनों ने यहीं से क्रिकेट की एबीसीडी सीखनी शुरु की। आचरेकर सर के पास ये दोनों सुबह-सुबह ट्रेनिंग लेने जाया करते थे। फिर दिनभर मैच खेलना आैर शरारत करना इनकी आदतों में शुमार हो गया। सचिन तेंदुलकर ने अपनी किताब 'प्लेइंब इट माॅय वे' में कांबली की कर्इ शरारतों का जिक्र किया है। सचिन लिखते हैं, कांबली हमेशा से फनी रहे हैं। वह किस पल क्या कर देंगे किसी को नहीं पता होता था। एक बार कांबली आैर मैं घरेलू मैच में बैटिंग कर रहे थे। तभी अचानक एक पतंग उड़ती हुर्इ मैदान में आ गर्इ जब तक उस पंतग को बाहर निकाला जाता वह कांबली के हाथों में आ चुकी थी। फिर क्या कांबली बैटिंग छोड़ पतंग उड़ाने में मशगूल हो गए। कांबली क्रीज से लगभग 20 मीटर दूर चले गए, डोर उनके हाथ में थी आैर पारी बीच में रुक गर्इ। यह कांबली के जीने का तरीका था जिसे मैं भी नहीं बदल सका।'
कोच आचरेकर ने लगार्इ क्लाॅस
सचिन आगे लिखते हैं, 'कांबली ने उस दिन मैदान पर एेसा इसलिए किया क्योंकि आचरेकर सर आसपास कहीं दिखार्इ नहीं दे रहे थे। मगर मुझे अंदर से महसूस हो रहा था कि विनोद की यह हरकत आचरेकर सर ने कहीं न कहीं से देख ली होगी आैर दिन का खेल खत्म होने के बाद शाम को डांट जरूर पड़ेगी।' तेंदुलकर की मानें तो, आचरेकर सर उनके एक भी मैच मिस नहीं करते थे। उस दिन भी वह पेड़ के पीछे छुपकर हमारा मैच देख रहे थे आैर उन्होंने कांबली की शरारत भी पकड़ ली। शाम को सर ने हमारी क्लाॅस लगार्इ। ये क्लाॅस इसलिए होती थी कि, हमने मैच में क्या गलती की आैर इसमें कितना सुधार चाहिए। आचरेकर सर ने मुझे एक चिट पकड़ार्इ आैर जोर से पढ़ने को कहा। उस चिट में पहला वाक्य था 'विनोद की पतंग', सर कांबली के बीच मैच में पतंग उड़ाने से काफी नाराज थे। उन्होंने कांबली को हिदायत दी कि वह दोबारा एेसा न करें।

664 रन की पार्टनरशिप से खुश नहीं थे कांबली

सचिन तेंदुलकर आैर विनोद कांबली की हैरिस शील्ड ट्राॅफी के सेमीफाइनल में 664 रन की रिकाॅर्ड पार्टनरिशप के बारे में सभी जानते हैं। मगर आपको पता है कांबली इस साझेदारी को आैर बड़ा करना चाहते थे। सचिन ने अपनी किताब में इसका जिक्र भी किया। तेंदुलकर लिखते हैं, 'उस मैच में मैं आैर कांबली जब बैटिंग करने आए तब स्कोर 2 विकेट पर 84 रन था। इसके बाद हमने पूरा दिन बल्लेबाजी की। विनोद ने 182 रन बनाए आैर मैंने 192, अगली सुबह हम दोनों अपना-अपना दोहरा शतक लगा चुके थे। उस वक्त आचरेकर सर चाहते थे कि हम पारी घोषित कर दें। इसके लिए उन्होंने असिस्टेंट कोच को बाउंड्री लाइन पर भेजा ताकि वो हमें इशारा करके पारी घोषित करने के लिए कहे। मगर मैंने आैर कांबली ने सोच लिया था कि असिस्टेंट कोच की तरफ नहीं देखेंगे आैर हम लगातार बैटिंग करते रहे।

सचिन से हुए थे नाराज

लंच तक हमारी टीम ने 748 रन बना लिए थे। उस वक्त मैं 326 रन पर था आैर कांबली 349 रन पर। अब पारी घोषित करने की बारी आ चुकी थी। आचरेकर सर ने भी आदेश दे दिया था मगर कांबली चाहते थे कि उन्हें एक गेंद आैर खेलने को मिल जाए ताकि वह 350 रन बना सकें। इसके बाद सचिन ने पब्लिक फोन बूथ से आचरेकर सर को फोन लगाकर पारी को आगे बढ़ाने के लिए पूछा, मगर कोच ने साफ मना कर दिया। सचिन लिखते हैं, इस बात से कांबली मुझसे काफी नाराज भी हुए।

24 साल की उम्र में खेला आखिरी टेस्ट

स्कूल क्रिकेट के बाद सचिन आैर कांबली ने पहले रणजी फिर इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा। हालांकि कांबली को सचिन जितनी कामयाबी नहीं मिल पार्इ। क्रिकइन्फो पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, कांबली ने भारत के लिए 17 टेस्ट मैच खेले जिसमें 54.20 की आैसत से 1084 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने दो बार दोहरा शतक भी लगाया। कांबली ने अपना आखिरी टेस्ट 1995 में खेला था तब उनकी उम्र सिर्फ 24 साल थी। अब वनडे की बात करें तो कांबली के नाम 104 मैचों में 2477 रन दर्ज हैं।

#10YearChallenge : 10 साल पहले कौन थे दुनिया के टाॅप 10 बल्लेबाज, एक भारतीय पहले भी नंबर वन था आैर आज भी है


रिषभ पंत की गर्लफ्रेंड बतार्इ जा रही ये लड़की अनुष्का से ज्यादा खूबसूरत है, देखें तस्वीरें



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.