कोहली जिस कंगारु खिलाड़ी के लिए पैसे जुटा रहे उसकी दर्दभरी कहानी सुन निकल आएंगे आंसू

2019-01-05T11:17:19Z

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने सिडनी टेस्ट में शनिवार को एक अनोखा काम किया। दरअसल विराट सेना ने तीसरे दिन का खेल शुरु होने से पहले पूर्व आॅस्ट्रेलियार्इ क्रिकेटर ग्लेन मैक्ग्रा के कैंसर फाउंडेशन के लिए उन्हें साइन की हुर्इ टोपी दी। भारतीय टीम ने एेसा इसलिए किया ताकि मैक्ग्रा फाउंडेशन को पैसा मिल सके।

कानपुर। भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया के बीच तीन जनवरी से खेला जा रहा सिडनी टेस्ट काफी अलग है। पूरा मैदान गुलाबी रंग में नजर आ रहा। भारतीय कप्तान विराट कोहली तो पैड से लेकर ग्लव्स तक सभी पिंक रंग का पहने हैं। बताते चलें आॅस्ट्रेलिया में पिछले 10 सालों से जनवरी में पहला टेस्ट कुछ एेसे ही खेला जाता है। स्टेडियम को गुलाबी रंग में रंगने का मकसद कैंसर के प्रति जागरुकता को बढ़ाना हो। दरअसल इस कैंपेन की शुरुअात मैक्ग्रा फाउंडेशन ने की। आॅस्ट्रेलिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में शुमार रहे ग्लेन मैक्ग्रा 2008 से इस कैंपेन को चला रहे आैर शनिवार को टीम इंडिया के सभी खिलाड़ियों ने फाउंडेशन को आर्थिक मदद देने के लिए साइन की हुर्इ टोपी मैैक्ग्रा को सौंपी।

It is #PinkDay here at the SCG and #TeamIndia did their bit before the start of play in support of the McGrath Foundation #PinkTest 👌👏👏 pic.twitter.com/2K9uY8lDGt

— BCCI (@BCCI) 5 January 2019

मैक्ग्रा की पत्नी की कैंसर से हुर्इ थी मौत
पूर्व् आॅस्ट्रेलियार्इ तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा द्वारा इस फाउंडेशन की नींव रखने की कहानी काफी दर्दभरी है। 10 साल पहले मैक्ग्रा की पत्नी जेन की कैंसर के चलते मौत हो गर्इ थी। पत्नी की मौत ने मैक्ग्रा को अंदर तक झकझोर दिया। दरअसल उन्होंने जेन को बचाने की बहुत कोशिश की थी। टेलिग्राॅफ की एक खबर के मुताबिक, जेन को कैंसर के बारे में पहली बार 1997 में पता चला था। उस वक्त उन्हें ब्रेस्ट कैंसर हुआ था। इसके ठीक छह साल बाद उन्हें बोन कैंसर हो गया, हालांकि जेन ने तब दोनों बीमारियों से कड़ी जंग लड़कर निजात पा ली थी। मगर किस्मत को कुछ आैर मंजूर था साल 2006 में जेन को तीसरी बार कैंसर हुआ, अबकी बार उन्हें दिमाग का कैंसर था।

कैंसर के खिलाफ मैक्ग्रा लड़ रहे जंग

पत्नी जेन को इतना परेशान देख मैक्ग्रा ने खेलना छोड़ दिया आैर वह पत्नी आैर बच्चों की देखभाल के लिए 8 महीने क्रिकेट से दूर रहे। इसके बाद उन्हें कंगारु टीम में फिर वापसी की आैर आॅस्ट्रेलिया को न सिर्फ एशेज जितवाया बल्कि वर्ल्ड चैंपियन भी बनाया। इसके कुछ समय बाद मैक्ग्रा ने क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। अब मैक्ग्रा का पूरा समय जेन की देख रेख में गुजरता गया, हालांकि इन दोनों का साथ अगले एक साल तक आैर रहा। 2008 में जेन ने दुनिया को अलविदा कह दिया। जेन की मृत्यु के बाद मैक्ग्रा ने कैंसर जागरुकता का अभियान चलाया आैर पिछले 10 सालों से वह इसी कैंपेन से जुड़े हैं। मैक्ग्रा ने 2010 में सारा नाम की लड़की के साथ दूसरी शादी कर ली।

सिडनी टेस्ट : केएल राहुल ने मैदान में किया एेसा कि अंपायर को भी बजानी पड़ी ताली
आज ही पैदा हुआ था एक आंख वाला भारतीय कप्तान, चीते की तरह करता था फील्डिंग


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.