हर सोमवार पांच क्विंटल फूलों से सजेगा बाबा दरबार

2019-07-14T10:51:03Z

महादेव की नगरी काशी में सावन का अपना ही महत्व है जिसकी तैयारियां जोरशोर से चल रही है

- विश्वनाथ धाम की सुरक्षा में पूर्व सैनिकों को किया जाएगा तैनात

- सावन मेले की तैयारी में जुटा है जिला और मंदिर प्रशासन

varanasi@inext.co.in
VARANASI : सावन के लिए मंदिर, कांवडि़ये और शहर की सुरक्षा को लेकर प्रशासन ने पूरा होमवर्क कर लिया है. बहुत जल्द ही विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा में पूर्व सैनिकों को तैनात किया जाएगा. उधर, मंदिर प्रशासन ने विश्वनाथ धाम और भक्तों को लेकर खास इंतजाम किए हैं. हर सोमवार को मंदिर को पांच क्विंटल फूलों की मालाओं से सजाया जाएगा और भक्तों के लिए रेड कारपेट बिछाई जाएगी.

पूरे सावन दूर-दूर से आते हैं भक्त
पूरे सावन कंधे पर कांवड़ लिए दूर-दूर से भक्त काशी विश्वनाथ का दर्शन करने और जल चढ़ाने आते हैं. इस बार 17 जुलाई से शुरू होने वाले सावन मेले को लेकर प्रसाशन ने भी अपनी कमर कस ली है. शिवभक्तों के लिए इस साल काफी तैयारियां हो रही हैं. सावन मेले की तैयारी के लिए काशी विश्वनाथ मंदिर की सजावट पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा. एसडीएम विनोद कुमार सिंह ने बताया कि प्रतिदिन मंदिर परिसर को सजाया जाएगा. वहीं, सोमवार को पांच क्विंटल फूलों की मालाओं से पूरा मंदिर महमह करेगा. साथ ही शिवभक्तों के लिए बैरिकेडिंग से लेकर मंदिर के अंदर तक रेड कारपेट बिछाई जाएगी.

मंदिर से पुलिस-पीएसी हटेगी
काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था और चाक चौबंद की जा रही है. मंदिर में तैनात यूपी पुलिस और पीएसी के जवानों को हटाकर पूर्व सैनिकों को तैनात किया जाएगा, जबकि सीआरपीएफ की तैनाती पूर्व की तरह रहेगी. गृह मंत्रालय से इसकी अनुमति मिल गई है और मंदिर प्रशासन तैयारियों में जुट गया है. काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 100 से अधिक प्वाइंट बनाए गए हैं.

मंदिर परिसर में पूर्व सैनिकों की तैनाती पर कितना खर्च प्रतिमाह आएगा, इसका आकलन किया जा रहा है. खर्च यदि बजट के अंदर रहा तो योजना को शीघ्र ही लागू कर दिया जाएगा.

-विशाल सिंह, सीईओ, विश्वनाथ मंदिर


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.