500 का टैंकर वसूली 1000 तक

2019-06-22T06:00:47Z

- मानकों को ताक पर रखकर बेच रहे पानी

- फिर भी जल संस्थान कर रहा अनदेखी

देहरादून।

शहरभर में वाटर माफिया टैंकर संचालकों की मनमानी जमकर चल रही है। जल संस्थान द्वारा दिए जाने वाले फ्री पानी का यह प्रति टैंकर एक हजार रुपए तक वसूल रहे हैं। जबकि, जल संस्थान को ओर से तय है कि एक टैंकर पानी का 500 रुपए से ज्यादा वसूल नहीं किया जा सकता। लेकिन, जब टैंकर संचालकों को जल संस्थान की ही शह मिली हो तो इनकी मनमानी पर कौन अंकुश लगाए।

विभाग ही करा रहा खेल

जल संस्थान तो पानी के बदले पानी दिए जाने की व्यवस्था का हवाला देते हुए साइड हो जाता है, लेकिन इस खेल के पीछे हाथ विभाग का ही है। विभाग ने टैंकर संचालकों को खुली छूट दे रखी है, इसी कारण वे पानी के मनमाने दाम वसूल रहे हैं। लोग लगातार शिकायत कर रहे हैं, लेकिन इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही।

दूरी के हिसाब से रेट

टैंकर संचालकों की ओर से खुद ही रेट तय किए गए हैं। टैंकर वालों का कहना है कि ट्यूबवेल से दूरी के हिसाब से अलग-अलग जगह का रेट तय है। दूरी के हिसाब से टैंकर के रेट बढ़ाए जाते हैं।

500 से 1000 तक वसूली

जल संस्थान का कहना है कि एक टैंकर पानी के ज्यादा से ज्यादा 500 रुपए वसूल किए जा सकते हैं, लेकिन टैंकर वालों का ये शुरुआती रेट है। 500 से लेकर 1000 रुपए तक वे एक टैंकर पानी का वसूल कर रहे हैं। जिससे आम लोगों की जेब कट रही है।

कंस्ट्रक्शन साइट पर अवैध सप्लाई

टैंकर संचालक कंस्ट्रक्शन साइट पर भी अवैध तरीके से पेयजल की सप्लाई कर रहे हैं। ऐसे में लोगों को पेयजल आपूर्ति भी पूरी तरह से नहीं हो पाती है। बावजूद इसके पीने के पानी को कंस्ट्रक्शन में दिया जा रहा है। खुले आम टैंकर संचालक ये काम कर रहे हैं। जिसके अधिक रेट लोगों से वसूले जाते हैं।

--

जल संस्थान की ओर से तय रेट अधिकतम 500 रुपये हैं। टैंकरों को इससे अधिक पैसे नहीं लेने चाहिए। हालांकि इसको लेकर उन्हें टोका भी जाता है।

- मनीष सेमवाल, ईई, जल संस्थान


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.