World Women's Boxing Championships: सेमीफाइनल में हारी मैरीकाॅम, फिर भी आठवां मेडल पाकर रचेंगी इतिहास

Updated Date: Sat, 12 Oct 2019 12:20 PM (IST)

भारतीय महिला बाॅक्सर मैरीकाॅम शनिवार को खेले गए वर्ल्ड वुमेंस बाॅक्सिंग चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में हार गईं। इसी के साथ मैरीकाॅम का रिकाॅर्ड सातवां गोल्ड मेडल जीतने का सपना भी टूट गया। हालांकि इस हार के बाद उन्हें ब्रांज मेडल से संतोष करना पड़ेगा।

उलान उदे (रूस) (एएनआई)। शनिवार को खेले गए वुमेंस बाॅक्सिंग चैंपियनशिप सेमीफाइनल में भारतीय महिला बाॅक्सर मैरीकाॅम को करारी हार मिली है। मैरी को इस मुकाबले में तुर्की की मुक्केबाज Busenaz Cakiroglu के हाथों 1-4 से हार का सामना करना पड़ा। इस शिकस्त के बाद मैरीकाॅम का सातवां गोल्ड मेडल जीतने का सपना भी टूट गया।  
अब ब्रांज मेडल से करना पड़ेगा संतोष
मैरीकॉम को इस हार के बाद अब ब्रांज मेडल से संतोष करना पड़ेगा। इससे पहले छह बार विश्व चैंपियनशिप का गोल्ड मेडल हासिल करने वाली मैरी रैफरी के फैसले से निराश नजर आई। इससे पहले सेमीफाइनल में पहुंचने के साथ ही मैरी आठवां मेडल पक्का कर इतिहास रचा था। भारत को अपनी इस स्टार मुक्केबाज से सातवें गोल्ड मेडल की उम्मीद थी। मैच में मैरी ने बेहद शानदार खेल दिखाया लेकिन फिर भी वह फाइनल में पहुंचने से नाकाम रही।

Mary ke #PunchMeinHaiDum🥊
A record 8th medal for the legend as she ends her campaign at #WWCHs2019 completing her brilliant @AIBA_Boxing World Championships medal galore with a Bronze🥉
Goes down 1-4 in Semifinals to Busenaz Cakiroglu of Turkey! #Kudos @MangteC @BFI_official 👏 pic.twitter.com/PHtQREbCiG

— Team India (@WeAreTeamIndia) October 12, 2019


आठ मेडल जीतने वाली पहली बाॅक्सर बनेंगी
मैरी कॉम ने टूर्नामेंट के इतिहास में सबसे सफल मुक्केबाज के रूप में अपना खुद का रिकॉर्ड सुधार लिया। टूर्नामेंट की शुरुआत से पहले उनके पास 48 किग्रा वर्ग में छह गोल्ड और एक सिल्वर सहित सात मेडल थे। यह पहला मौका है जब मणिपुरी मुक्केबाज ने 51 किग्रा वर्ग में विश्व पदक हासिल किया है। अपने 8 वें पदक के साथ मैरी कॉम ने क्यूबा के फेलिक्स सैवन को भी पीछे छोड़ दिया जिनके पास टूर्नामेंट में सात पदक और आयरलैंड के केटी टेलर, जिनके करियर में 6 विश्व पदक थे। इस लिस्ट में सबसे पहला नाम अब मैरीकाॅम का आ जाएगा जिनके नाम अब आठ मेडल हो जाएंगे।

 

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.