पता नहीं आपसे बड़ी है या छोटी लेक‍िन हां आज से 26 साल की हो गई महाराष्‍ट्र में चली थी दुनिया की पहली महिला स्पेशल ट्रेन

2018-05-05T14:02:50Z

पता है आज दुन‍िया की पहली महिला स्पेशल ट्रेन 26 साल की हो गई है। भारत में पश्चिम रेलवे ने महाराष्ट्र पश्चिम रेलवे के चर्चगेट और बोरीवली स्टेशन के बीच यह ट्रेन शुरू की थी। आइए जानें इस खास द‍िन पर महिला स्पेशल ट्रेन की ये खास बातें

चर्चगेट और बोरीवली स्टेशन के बीच शुरु हुई
मुंबई (प्रेट्र)। पश्चिम रेलवे ने 5 मई 1992 के दिन दुनिया की पहली महिला स्पेशल ट्रेन को हरी झंडी दिखाई थी। ऐसे में आज यह महिला स्पेशल ट्रेन 26 साल की हो चुकी है। यह स्पेशल ट्रेन महाराष्ट्र पश्चिम रेलवे के चर्चगेट और बोरीवली स्टेशन के बीच शुरु हुई थी।

1993 में इसकी सेवा विरार तक बढ़ा दी गईं

पश्चिम रेलवे के प्रवक्ता रविंदर भाकर का कहना है कि आज से 26 साल पहले यह एक बड़ा कदम था। मुंबई के उपनगरीय इलाके में केवल महिलाओं के लिए यह ट्रेन यह चर्चगेट से बोरीवली के बीच चलाई गई। हालांकि बाद में 1993 में इसकी सेवा विरार तक बढ़ा दी गईं।

5. On the occasion of #WRKiLadiesSpecial के 26 saal #OnThisDay, feedback forms were got filled by lady commuters about the services, seeking suggestions for further improvement. More frequency, no old rakes were the major demands pic.twitter.com/Fvn0cCr7nX

— Western Railway (@WesternRly) May 5, 2018

महिलाओं की भीड़ देख आठ चक्कर लगाने लगी
शुरू में यह दिन में केवल दो चक्कर लगाती थी लेकिन बाद में यात्रियों की भीड़ होने से आठ चक्कर लगाने लगी। इसने देखते ही देखते एक अच्छी लोकप्रियता हासिल कर ली थी। अपने इस कदम की वजह से पश्चिम रेलवे दूसरे रेलवे के लिए एक मार्गदर्शक बन गया था।
इस ट्रेन से कामकाजी महिलाओं को फायदा हुआ
अब तक इस ट्रेन से एक मिलियन से अधिक कामकाजी महिलाओं को फायदा हुआ है। वहीं केंद्रीय रेलवे ने भी 1 जुलाई 1992 को एक महिला स्पेशल ट्रेन छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस और कल्याण के बीच चलाई थी। अब तो महिला स्पेशल ट्रेनों की संख्या बढ़ी है।

लेडीज स्पेशल ट्रेनों में सुरक्षा के इंतजाम किए गए

रविंदर भाकर का कहना है कि आज महिला यात्रियों को बधाई देने के साथ ही ट्रेन सेवाओं को और बेहतर बनाने के लिए उनसे राय ली जाएगी। वह बताते हैं कि सुरक्षा की नजर से महिला विशेष ट्रेनों में सीसीटीवी और कोच में कैमरे और टॉक-बैक आदि की सुविधा दी जा रही है।

 

जानें कैसे नए नाम 'परशुराम' के साथ भारतीय वायुसेना में फिर शामिल हो गया सालों पहले कबाड़ में जा चुका 'डकोटा विमान'

मौसम विभाग की चेतावनी उत्तर भारत से फिर टकरा सकता है तूफान, ये राज्य होंगे अधिक प्रभावित

 

 

Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.