योगी सरकार ने कहा वृद्धजन व किसान कम रुपयों का न लें टेंशन साधुसंतों को भी मिलेगी पेंशन

2019-01-22T11:14:32Z

उत्तर प्रदेश सरकार ने वृद्धावस्था एवं किसान पेंशन को 400 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये करने का निर्णय लिया है।

सरकार अब देगी 500 रुपये वृद्धावस्था पेंशन
- 09 लाख नये लाभार्थी चिन्हित
- 70 लाख लोगों को मिलेगा फायदा
- वृद्धावस्था एवं किसान पेंशन  400 से बढ़ाकर 500 रुपये
- सभी जनपदों में 20 से 30 जनवरी के बीच पेंशन कैंप
- साधु-संत भी आएंगे दायरे इसके दायरे में
-  600 करोड़ रुपये करीब का अतिरिक्त व्ययभार आएगा
lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: राज्य सरकार ने वृद्धावस्था एवं किसान पेंशन को 400 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये करने का निर्णय लिया है । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस बाबत सभी जनपदों में विधानसभा स्तर पर 20 से 30 जनवरी के बीच वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन, दिव्यांगजन पेंशन कैंप आयोजित करने के निर्देश दिए हैं । मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद डीएम के माध्यम से कैंप आयोजित किए जा रहे हैं जिसमें जनप्रतिनिधि, प्रभारी मंत्री और मंत्री अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे है । इस प्रक्रिया से करीब नौ लाख नये लाभार्थी चिन्हित किए गये हैं जिसमें साधु-संत भी शामिल हैं । साथ ही प्रदेश में पेंशन पाने वाले कुल लाभार्थियों की संख्या 70 लाख से ज्यादा हो गयी है । इससे राज्य सरकार पर करीब 600 करोड़ रुपये का अतिरिक्त व्ययभार आएगा ।
400 रुपये मिलती है पेंशन
राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि अभी तक 60 से 79 वर्ष तक 400 रुपये वृद्धावस्था एवं किसान पेंशन दी जाती थी जिसे बढ़ाकर 500 रुपये किया गया है । इस बाबत लगने वाले कैंपों में समाज कल्याण, महिला कल्याण एवं दिव्यांगजन कल्याण के सभी नोडल अधिकारी तथा राजस्व, स्वास्थ्य आदि संबंधित अधिकारियों द्वारा फार्म भरवाने, सत्यापन करने और पेंशन की स्वीकृति प्रदान करने की व्यवस्था की गयी है । कैंप में ही आय, जाति, दिव्यांगजन प्रमाण पत्र बनवाने के लिए राजस्व व स्वास्थ्य विभाग की टीमों की उपस्थिति सुनिश्चित की गयी है । शिविर में पेंशन की स्वीकृति मिलने के बाद ही चयनित लाभार्थी के खाते में पेंशन की धनराशि हस्तांतरित की जाएगी ।

समाजवादी पेंशन और यश भारती भी दे सरकार

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस बाबत कहा कि भाजपा सरकार को साधु-संतों को बीस हजार रुपये पेंशन देनी चाहिए । साथ ही समाजवादी पेंशन और यश भारती भी फिर से शुरू कर देना चाहिए । रामलीला का मंचन करने वाले कलाकारों को भी सरकार पेंशन दे और अगर सरकारी खजाना अनुमति दे तो रावण का किरदार करने वाले को भी पेंशन देने पर विचार करना चाहिए ।

पुरानी पेंशन बहाली को लेकर कर्मचारी संगठन का फूंकेंगे बिगुल, होगी बैठक

यूपी : पुरानी पेंशन बहाली को लेकर फिर आंदोलन की राह पर राज्य कर्मचारी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.