लंदन (पीटीआई)। ब्रिटेन के मशहूर लंदन ब्रिज के निकट शुक्रवार को चाकूबाजी की घटना में दो लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। पुलिस ने इसे आतंकी हमला करार दिया है। पुलिस ने हमलावर को मार गिराया है। ब्रिज को चारों तरफ से घेर लिया गया है और वहां भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। इसके अलावा आपातकालीन सेवाओं को भी बहाल कर दिया गया है। पुलिस ने शनिवार को बताया कि हमलावर इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) का आतंकी था और वह कई सालों तक पाकिस्तान में रहा था। इसके अलावा, वह पिछले साल ही ब्रिटेन की जेल से रिहा हुआ था।

आतंकी गतिविधि की वजह से हमलावर के खिलाफ पहले सुनाई जा चुकी है सजा &

पुलिस ने संदिग्ध की पहचान 28 वर्षीय उस्मान खान के रूप में की है, जो अल-कायदा आतंकवादी समूह की विचारधारा से प्रेरित था, उसे पहले 1990 में लंदन स्टॉक एक्सचेंज में बम विस्फोट में उसकी खास भूमिका के लिए 16 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। द टेलीग्राफ के अनुसार, 2012 में सजा सुनाए जाने के समय, जज ने चेतावनी दी कि वह एक 'गंभीर जिहादी' है, जिसे रिहा नहीं किया जाना चाहिए, वह जनता के लिए खतरा बना हुआ है। पुलिस ने बताया कि खान कई सालों तक पाकिस्तान में रहा और वहां वह अपनी बीमार मां के साथ रहता था। उन्होंने बताया कि खान पिछले दिसंबर को जेल से रिहा होने के बाद से स्टैफोर्ड में रह रहा था। फरवरी 2012 में, खान को आठ साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। इसके अलावा 2013 में, कोर्ट ऑफ अपील ने उसे 16 साल की जेल की सजा सुनाई।

लंदन में Uber का लाइसेंस रद्द, क्‍या होगा अब?

कई लोगों की हालत गंभीर

असिस्टेंट कमिश्नर नील बसु ने लंदन के न्यू स्कॉटलैंड यार्ड मुख्यालय में एक बयान में कहा कि इस हमले में कई लोग घायल हो गए हैं, जिनमें से कुछ की हालत गंभीर बताई जा रही है। उन्होंने बताया कि खान ने शुक्रवार दोपहर लंदन ब्रिज के पास एक ऐतिहासिक इमारत फिशमॉन्जर हॉल में एक कार्यक्रम में भाग लिया था। आईएसआईएस ने कई बार लंदन ब्रिज को अपना निशाना बनाया है। इससे पहले 2017 में उन्होंने ब्रिज पर हमला किया था, तब 11 लोगों की मौत हो गई थी।

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk