-डी कंपनी से भी जुड़े हैं तार, लखनऊ एसटीएफ ने मुठभेड़ के दौरान करेली से किया अरेस्ट

PRAYAGRAJ: मुठभेड़ के दौरान शुक्रवार को लखनऊ एसटीएफ ने बीस हजार के इनामी व डी कंपनी के गुर्गे तौसीफ को गिरफ्तार कर लिया. कौशांबी निवासी तौसीफ मुंबई में हत्या समेत कई घटनाओं को अंजाम दे चुका है. वह गोवंश तस्कर गिरोह का सरगना भी है. एसटीएफ और करेली पुलिस ने कौशांबी में उसे घेरा तो वे भागते हुए करेली आ पहुंचा. यहां मुठभेड़ के दौरान उसे दबोच लिया गया.

मुबई में भी कर चुका है मर्डर

लखनऊ एसटीएफ को सूचना मिली कि बीस हजार का इनामी तौसीफ इन दिनों गोवंश की तस्करी का गिरोह चला रहा है. एसटीएफ कौशांबी में रेकी शुरू की. शुक्रवार को तौसीफ गोवंश सप्लाई के लिए निकला तो एसटीए ने पीछा कर लिया. करेली में वह एसटीएफ पर फायरिंग कर भागने की कोशिश करने लगा, मगर टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया. टीम को उसके पास से तमंचा, कारतूस मिले हैं. इंस्पेक्टर हेमंत भूषण की मानें तो तौसीफ पुत्र कलीमुद्दीन निवासी ग्राम सिहोरी थाना कोखराज, कौशाम्बी मुंबई में रहकर एसी रिपेयरिंग का काम करता था. वर्ष 1999 में मुंबई के माहिम थाने से एक हत्या के मुकदमे में जेल गया.

जमानत पर छूटा था शातिर

वहां से जमानत पर रिहा होने के बाद अपने गांव सिहोरी आ गया. यहां रहकर धौंस जमाकर रंगदारी वसूलने लगा. ऐसे ही कई मामलों में जेल गया. एसटीएफ के मुताबिक, तौसीफ गो-तस्करी के धंधे में लग गया. गांव के आसपास केक्षेत्रों से गोवंश को इकट्ठा कर बिहार, बंगाल आदि प्रान्तों में सप्लाई करने लगा. इस सम्बन्ध कई बार कोखराज थाने से जेल भी जा चुका है. 2013 में थाना कोतवाली, मीरजापुर से भी पुलिस मुठभेड़ के मुकदमे में जेल जा चुका है.