गंगा कावेरी एक्सप्रेस में हुई थी वारदात, दस लोग हुए थे घायल

आईजी जीआरपी ने मुख्य आरोपी पर रखा था 50 हजार का इनाम

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद जंक्शन पर चेकिंग के दौरान जीआरपी प्रयागराज के जवानों को बड़ी सफलता मिली. हल्की मुठभेड़ के बाद जवानों ने जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर दस से पिछले दिनों पनहाई स्टेशन के पास गंगा कावेरी एक्सप्रेस में हुई डकैती के मुख्य आरोपी लूलू पटेल उर्फ लुलुआ उर्फ रामसिया निवासी चित्रकूट गजरिया थाना बरगढ़ को गिरफ्तार किया. इस पर आईजी रेलवे ने 50 हजार रुपये का इनाम रखा था.

20 लाख की हुई थी डकैती

तीन सितंबर की देर रात मुंबई-हावड़ा रेल मार्ग पर पनहाई स्टेशन के पास सिग्नल रेड कर चेन्नई से पटना जा रही गंगा कावेरी एक्सप्रेस में डकैती की घटना को अंजाम दिया गया था. ट्रेन में सवार करीब एक दर्जन पैसेंजर्स को घायल कर 20 लाख रुपये से अधिक का सामान डकैत लूट ले गए थे. डकैती की सूचना से रेलवे में हड़कंप मच गया था. डकैतों की गिरफ्तारी के लिए जीआरपी के साथ ही एसटीएफ, क्राइम ब्रांच झांसी, जीआरपी सतना, जबलपुर, बांदा, भीमसेन के साथ ही आरपीएफ व चित्रकूट जिले की पुलिस को लगाया गया था.

पकड़े गए थे छह डकैत

दस दिन के अंदर जीआरपी व पुलिस की अन्य टीमों ने सर्विलांस, मोबाइल व सीसीटीवी फुटेज के आधार पर छह डकैतों को गिरफ्तार कर लिया था. 11 सितंबर को डकैतों की गिरफ्तारी हुई थी. लेकिन डकैतों का सरगना लुलु पटेल उर्फ रामसिया फरार चल रहा था. आईजी रेलवे ने इस पर 50 हजार रुपये का इनाम रखा था. एसपी रेलवे हिमांशु कुमार के निर्देश पर क्षेत्राधिकारी रेलवे रूपेश सिंह लगातार लुलु की तलाश में लगे हुए थे.

जीआरपी को देखते ही किया फायर

इलाहाबाद जंक्शन जीआरपी थाना के प्रभारी निरीक्षक रघुवीर सिंह व निरीक्षक सुबोध कुमार सर्विलांस प्रभारी को शुक्रवार की शाम लुलु के जंक्शन पर होने की सूचना मिली. इंस्पेक्टर के नेतृत्व में प्लेटफार्म नंबर दस के वाशिंग लाइन की तरफ घेराबंदी की गई. जीआरपी जवानों को देखते ही लुलु पटेल ने भागने का प्रयास किया. उसने हवा में फायर किया. हल्की मुठभेड़ के बाद जीआरपी टीम ने लुलु को 315 बोर के तमंचा के साथ गिरफ्तार किया. उसके पास से तीन जिंदा कारतूस, छह टच स्क्रीन मोबाइल, सात सौ ग्राम चांदी के जेवरात और 17 हजार रुपये नगद बरामद हुआ.