भाजपा के राष्ट्रीय सचिव ने सपा की परिवारिक महाभारत को बताया नौटंकी

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: बसपा शासन में हुए एनआरएचएम घोटाले की सीबीआई जांच में प्रदेश की अखिलेश सरकार सहयोग नहीं कर रही है. आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी सत्ता में आई तो बसपा सुप्रीमो को जेल जाना होगा. भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मंगलवार को सिविल लाइंस के एक होटल में पत्रकारों से यह बात कही.

अपने ही चक्रव्यूह में फंसे मुलायम

सपा के कुनबे में चल रही महाभारत को सिद्धार्थ नाथ ने परि 'वार' की संज्ञा दी. उन्होंने कहा कि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने अमर सिंह के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव जीतने की जो स्क्रिप्ट लिखी थी वह पूरी तरह फेल हो गए. दूसरे राउंड में ही वह अपने चक्रव्यूह में फंस गए. मुलायम कुनबे का यह पूरा युद्ध पांच साल हुई लूटखोरी की कमाई के बटवारे को लेकर है. अब यह तय करना मुश्किल हो रहा है कि फिर सरकार बनी तो अगले पांच साल तक लूटखोरी की कमाई पर कौन कब्जा करेगा.

विफल मुख्यमंत्री हैं अखिलेश

उन्होंने कहा कि सोमवार को लखनऊ के सपा मुख्यालय में मुलायम ने खुद अखिलेश यादव को विफल मुख्यमंत्री करार दे दिया. वह अपने बेटे को लाचार बनाकर जनता की सिंपेथी बटोरना चाहते हैं, जबकि असलियत में यह सब नौटंकी और ड्रामा है, भीतर से सभी एक हैं. जिसे जनता समझ चुकी है.

बौखला गई हैं मायावती

पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा सोमवार को वाराणसी में पांच हजार करोड़ की परियोजना का शिलान्यास किए जाने पर मायावती के लालीपॉप वाले बयान पर भाजपा राष्ट्रीय सचिव ने नाराजगी जताई. उन्होंने कहा कि एनआरएचएम और अंबेडकर पार्क घोटाले में फंसी बहनजी को यह लॉलीपाप ही लगेगा. केंद्र की सत्ता में आने के बाद बीजेपी ने एनआरएचएम मामले की जांच को खुलवाया, जिससे माया बौखलाई हैं.

बॉक्स..

तीन तलाक पर क्यों चुप हैं बाकी दल

तीन तलाक मामले में उन्होंने बसपा, सपा और कांगे्रस की चुप्पी पर सवाल उठाए. उन्होंने पूछा कि क्या संविधान से ऊपर धर्म है. जब मुस्लिम देशों ने तीन तलाक को दरकिनार कर कानून को प्रधानता दी है तो हमारे सेक्युलर देश में सभी दल खामोश क्यों हैं. रामगोपाल को भाजपा में शामिल करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सपा में गुंडाराज और लूटखोरी सिर चढ़कर बोल रही है. इसलिए रामगोपाल या दूसरे सपाई के लिए भाजपा के दरवाजे बंद रहेंगे. उन्होंने कांग्रेस पर भी प्रहार किया.