आगरा. औषधि विभाग ने रविवार को छह महीने से बिना लाइसेंस के चल रहे मेडिकल स्टोर पर छापा मारा. मेडिकल स्टोर से एक्सपायर, सैंपल सहित 20 हजार की दवाएं जब्त की हैं. दो दवाओं के सैंपल जांच को लिए गए हैं.

नहीं दिखा सके लाइसेंस

औषधि निरीक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया कि जावेद मेडिकल स्टोर, पक्की सराय, ताजगंज पर पुलिस टीम के साथ छापा मारा गया. मेडिकल स्टोर का संचालक जावेद पुत्र स्वर्गीय बशीर नहीं मिले. मेडिकल स्टोर पर किश्वर अहमद दवाएं दे रहा था, वह लाइसेंस नहीं दिखा सका. मेडिकल स्टोर से एक्सपायर और सैंपल की दवाएं भी मिली हैं. यहां से 20 हजार की दवाएं जब्त की गईं. कैप्सूल ए मॉक्स और टेबलेट एल्डोस्पास प्लस के सैंपल लिए गए, इन्हें जांच के लिए भेजा जाएगा. इनके खिलाफ कोर्ट केस दायर किया जाएगा.

बिना लाइसेंस के चल रहे जिले में हजारों मेडिकल स्टोर

बिना ड्रग लाइसेंस और फार्मासिस्ट के ताजनगरी में हजारों की संख्या में अवैध मेडिकल स्टोर संचालित हो रहे है. इन मेडिकल स्टोरों पर कहीं नकली तो कहीं सैंपल की दवा बेची जा रही है. तकरीबन 1200 से अधिक मेडिकल स्टोर ऐसे हैं, जिनके पास ड्रग डिपार्टमेंट से लाइसेंस नहीं हैं.

सत्यापन ही नहीं किया गया

ड्रग डिपार्टमेंट के रिकार्ड में सिर्फ 1662 मेडिकल स्टोर रजिस्टर्ड है. इन रजिस्टर्ड मेडिकल स्टोर के पास ड्रग लाइसेंस भी है और फार्मासिस्ट भी. बाकी के दो हजार से अधिक मेडिकल स्टोर ऐसे हैं, जिनका आज तक सत्यापन ही नहीं किया गया है.

कुल मेडिकल स्टोर

4000

रजिस्टर्ड

1662

होलसेलर

600

2017 में समाप्त हो चुका है लाइसेंस

जिले में 1200 से अधिक मेडिकल स्टोर का ड्रग लाइसेंस वर्ष 2016-2017 में समाप्त हो चुका है. लेकिन इन पर कोई एक्शन नहीं हुआ. पिछले एक साल में विभाग ने 150 दुकानों का सत्यापन किया था. जिसमें 54 मेडिकल स्टोर के ड्रग लाइसेंस निरस्त किए गए है. बाकी को नोटिस जारी किया गया है. सहायक आयुक्त औषधि प्रशासन शिव शरण सिंह ने बताया कि ऑनलाइन निरीक्षण में बिना लाइसेंस और फार्मासिस्ट के मामले पकड़ में आए हैं. उन सभी के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा. इसी के साथ ही 100 से अधिक ऐसे दवा विक्रेताओं की बिक्री पर रोक लगा दी गई है.