जबकि गल्र्स कैटेगिरी में बागपत की लड़कियों ने बाजी मारी. रिकर्व श्रेणी में सोनभद्र के ब्वायज ने सटीक तीरंदाजी की. वहीं गल्र्स रिकर्व श्रेणी सीनियर में जेपीनगर अव्वल रहा.

गोल्ड पर मेरठ का कब्जा
रविवार को दूसरे दिन भारतीय परंपरागत तीरंदाजी श्रेणी के जूनियर ब्वायज गु्रप में गुुरुकुल प्रभात आश्रम के राहुल ने गोल्ड मेडल हासिल किया. सिल्वर मेडल भी गुरुकुल प्रभात आश्रम के राजन के नाम रहा. जबकि ब्रोंज पर आर्चरी एकेडमी सोनभद्र के संतोष ने कब्जा जमाया. सीनियर ब्वायज कैटेगिरी में गुरुकुल प्रभात आश्रम के सोमेन्द्र ने गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया जबकि सिल्वर मेडल मेरठ के ही ललित के नाम रहा. ब्रोंज पर रंजन ने कब्जा जमाया. गल्र्स जूनियर और सीनियर दोनों ही कैटेगिरी में बागपत की मधु ने गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया.  वहीं सिल्वर मेडल बागपत आर्चरी एकेडमी की रितिका ने हासिल किया. आर्चरी एकेडमी बागपत की ही ज्योति सिंह के नाम ब्रांज मेडल रहा.

रिकर्व में अव्वल
चैम्पियनशिप के दूसरे दिन सोनभद्र और जेपीनगर के धनुर्धरों का भी शानदार प्रदर्शन रहा. रिकर्व श्रेणी सीनियर गल्र्स कैटेगरी में गोल्ड, सिल्वर और ब्रोंज तीनों मेडल्स पर जेपीनगर का कब्जा रहा. जबकि रिकर्व श्रेणी के ब्वायज में गोल्ड, सिल्वर और ब्रांज तीनों में सोनभद्र के धनुर्धर अव्वल रहे. 

नेशनल का टिकट
दो दिवसीय स्टेट आर्चरी चैम्पियनशिप में प्रदर्शन के आधार पर ही नेशनल आर्चरी चैम्पियनशिप में शिरकत करने का मौका मिलेगा. रविवार को समापन के बाद एक्सपट्र्स की टीम नेशनल आर्चरी प्रतियोगिता के लिए स्टेट टीम का सैलेक्शन कार्य में जुट गई है. गौरतलब है कि प्रतियोगिता में देश भर के सौ धनुर्धरों ने हिस्सा लिया था.