- मंडी में 100 रुपए लीटर पहुंचा दूध

- खोआ के दाम 2000 रूपए पसेरी

- सावन का सोमवार, बकरीद और रक्षाबंधन के चलते बढ़ी दूध की डिमांड

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: कई त्योहारों के एक साथ पड़ने से दूध के दामों में भारी उछाल आ गया है. इसकी कीमत सौ रुपए प्रति लीटर पहुंच गई है. फिलहाल इसके दाम घटने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं. ऐसे में रक्षाबंधन पर मिलने वाली मिठाइयों के दाम आसमान पर पहुंचने शुरू हो गए हैं. दूध और मिठाई कारोबारियों के अनुसार पहली बार दूध के दाम इतने अधिक हुए हैं.

दो हजार रुपये प्रति पसेरी खोआ

दूध कारोबारियों के अनुसार सावन का अंतिम सोमवार और बकरीद का त्योहार एक साथ पड़ गया. ऐसे में दूध की मांग बढ़ गई. वहीं रक्षाबंधन के चलते मिठाई के दुकानदारों के यहां दस से 15 दिन पहले ही मिठाइयों की तैयारी शुरू हो जाती है, जिसके लिए हलवाई पहले ही दूध बटोरना शुरू कर देते हैं. दूध के दामों का असर खोआ पर भी पड़ा है, जो खोआ एक हजार से 1200 रुपए पसेरी मिल रहा था उसके दाम 2000 रुपए प्रति पसेरी तक पहुंच गए हैं. वहीं पनीर का दाम भी 400 से 500 रुपए तक पहुंच गया है.

एफएसडीए ने भी खोला मोर्चा

मामला सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है. एफएसडीए (फूड सेफ्टी एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन) के अधिकारी भी त्योहारों को देखते हुए मिठाई की दुकानों पर लगातार छापे मारी कर रहे हैं और सैंपल ले रहे हैं. ऐसे में मिठाइयों के कारोबारी किसी भी तरह की मिलावट से खुद को दूर रख रहे हैं. पैकेट बंद दूध के दाम केन में आने वाले दूध की तुलना में कम हैं, लेकिन दूध के व्यापारियों का काम उससे नहीं चल पा रहा है. मिठाई व्यापारियों के अलावा शहर में मौजूद चाय के होटलों पर रोजाना दो से तीन केन दूध की खपत होती है. एक केन में तकरीबन 20 लीटर दूध आता है.

100 रुपए अभी से बढ़ गए मिठाई के दाम

मिठाई दुकानदारों के अनुसार अभी से मिक्स मिठाई की कीमत 100 रुपए बढ़ गई है. 360 रुपए प्रति किलो मिलने वाली मिठाई 450 रुपए प्रति किलो पहुंच गई है. ऐसे में दूध और खोआ से बनी मिठाइयों के दाम अभी और बढ़ेंगे. रक्षाबंधन के चलते लोगों ने अभी से मिठाई दुकानदारों के यहां एडवांस बुकिंग करनी शुरू कर दी है. आलम यह है कि आस-पास के क्षेत्रों से आने वाला दूध जो रोज बिक नहीं पाता था वहीं अब मंडी में दोपहर के बाद दूध मिलना मुश्किल हो गया है.

कोट

कई त्योहारों के एक साथ पड़ने से ना केवल दूध के दाम बढ़ गए हैं बल्कि मिठाई के दाम भी इस बार अधिक होके. 500 रुपए किलो मिलने वाली दूध की बर्फी के दाम अभी से 700 रुपए किलो पहुंच गये हैं.

पीयूष शुक्ला

मिठाई विक्रेता

बॉक्स

राजधानी में दूध की दो बड़ी मंडिया

राजधानी में आस-पास के क्षेत्रों से दूध की आपूर्ति की जाती है. इसमें माल, मलिहाबाद, काकोरी, मोहनलालगंज, रायबरेली, हरदोई क्षेत्र के गांव भी शामिल हैं. राजधानी में चारबाग और ठाकुरगंज में दो बड़ी दूध और खोआ मंडी है. इन जगहों से शहर भर के हलवाई दूध और खोआ की खरीदारी करने पहुंचते हैं.

बॉक्स

एफएसडीए ने भरे दस नमूने

त्योहारों के सीजन को देखते हुए एफएसडीए ने मंगलवार को राजधानी के कई इलाकों में मिठाई दुकानदारों के यहां औचक निरीक्षण किया और दस सैंपल लेकर इन्हें जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा है. इनमें विजय खंड स्थित कालिका स्वीट्स के यहां से राजभोज, धनिया महरी पुल स्थित खोआ बर्फी, अजंता डेयरी से पनीर, कुर्सी रोड स्थित भारत डेयरी से पनीर का नमूना लेकर जांच के लिए भेजा गया है. रहीमनगर स्थित न्यू सतगुरु डेयरी से पनीर, आलमबाग के पूरन नगर से पतीसा, सर्वोदय नगर स्थित सौरभ स्वीट्स से मिल्क केक, चौक स्थित उजाला स्वीट्स से खोआ और लालबाग स्थित प्रमोद प्रोविजन स्टोर से पतीसा का नमूना जांच के लिए भरा गया.