नर्इ दिल्ली (एजेंसियां)। बच्चों के स्कूल बैग के वजन को हल्का करने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी मिनिस्ट्री) की ओर से नई गाइडलाइन्स जारी की गईं हैं। इसमें क्लास-1 से लेकर 10वीं तक के लिए बच्चों के स्कूल बैग का वजन निर्धारित कर दिया गया है। बच्चों के होमवर्क को लेकर भी नए नियम बनाए गए हैं। इससे मासूम बच्चों को होने वाली हेल्थ रिलेटेड प्रॉब्लम्स से छुटकारा मिल जाएगा।

क्लास के हिसाब से वजन

नए नियमों के अनुसार, क्लास-1 और 2 के स्टूडेंट्स के बैग का वजन 1.5 किलो होगा। तीसरी से पांचवी में 2-3 किलो, क्लास-6 से 7 तक चार किलो, आठवीं से नौवीं तक 4.5, जबकि क्लास-10 में पढऩे वाले स्टूडेंट्स के बैग का वजन केवल 5 किलो निर्धारित किया गया है। यही नहीं, किस क्लास के लिए कौन से सब्जेक्ट की बुक लाना जरूरी है, इसके लिए भी राज्यों के शिक्षा अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

भारी सामान भी न लाएं बैग में
एचआरडी मिनिस्ट्री कीनई गाइडलाइन्स में क्लास-1 और 2 के स्टूडेंट्स को होमवर्क नहीं देने का निर्देश जारी किया गया है। इसके साथ ही लैंग्वेज और मैथेमेटिक्स के अलावा कोई और सब्जेक्ट नहीं पढ़ाने के भी निर्देश हैं। क्लास-3 से 5 में लैंग्वेज, एनवायरमेंट और मैथ्स को एनसीईआरटी की बुक्स से पढ़ाने के  आदेश दिए गए हैं। इसके अलावा किसी तरह का भारी सामान बैग में लेकर स्कूल नहीं लाने का भी निर्देश दिया गया है।

कैसे कम होगा स्कूल बैग का बोझ, जब सिलेबस एक नहीं

National News inextlive from India News Desk