- पीडि़ता के चाचा ने बीजेपी से किया सवाल, बर्खास्तगी के लिये क्यों कर रहे इंतजार

 

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: उन्नाव गैंगरेप कांड की पीडि़ता के पिता को मारपीट कर फर्जी तमंचे की बरामदगी दिखाकर जेल भेजने के आरोपों में सीबीआई ने अरेस्ट विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत आठ आरोपियों को सीबीआई की विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया. प्रभारी विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट विनीता सिंह ने सभी आरोपितों को 26 जुलाई तक के लिए न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है. उधर, पीडि़ता के चाचा ने गुरुवार को एक वीडियो जारी कर बीजेपी से सवाल किया कि आखिरकार सीबीआई द्वारा चार्जशीट लगा दिये जाने के बाद भी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर को पार्टी से बर्खास्त क्यों नहीं कर रही?

 

सभी आठ आरोपी किये गए पेश

सभी आरोपियों पर साजिश कर असलहे की व्यवस्था करने, पीडि़ता के घायल पिता के पास से फर्जी तमंचा बरामदगी दिखाकर माखी थाने में उन्हें बंद कराने और सच्चाई जानते हुए भी थानाध्यक्ष माखी द्वारा दस्तावेजों में फर्जी प्रविष्टि कर उन्हें जेल भेजने के आरोप हैं. पेशी के लिए विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को सीतापुर की जिला जेल से लाया गया. वहीं थानाध्यक्ष माखी अशोक सिंह भदौरिया, उपनिरीक्षक कामता प्रसाद सिंह, शैलेन्द्र सिंह उर्फ पिंटू सिंह, राम शरण सिंह उर्फ सोनू सिंह, विनीत मिश्रा उर्फ विनय मिश्रा, वीरेन्द्र सिंह उर्फ बउवा तथा शशि सिंह को लखनऊ जेल से लाकर पेश किया गया.

 

पिटाई से हुई थी मौत

सीबीआई विवेचना के मुताबिक, आरोप है कि गत 12 फरवरी को किशोरी के साथ दुष्कर्म की घटना की शिकायत की पैरवी करने के लिए उसके पिता उन्नाव की अदालत गए थे. वहां से लौटते समय उन्हें बुरी तरह से रायफल एवं रिवाल्वर की बट से पीटा गया. साथ ही फर्जी तमंचा की बरामदगी दिखाकर माखी थाने में बंद करा दिया गया. कहा गया है कि मामले की सच्चाई जानते हुए भी थानाध्यक्ष माखी ने दस्तावेजों में कूट रचित इंट्री कर उसे जेल भेज दिया. गत नौ अप्रैल को उसकी न्यायिक अभिरक्षा में मौत हो गई थी.

 

पीडि़ता के चाचा ने बीजेपी से पूछे सवाल

गैंगरेप पीडि़ता के चाचा ने गुरुवार को एक वीडियो जारी किया. इस वीडियो में विधायक सेंगर को बीजेपी से अब तक बर्खास्त कर करने पर सवाल उठाया है. पीडि़ता के चाचा ने वीडियो में कहा कि जब मायावती अपनी पार्टी के किसी विधायक या सांसद पर आरोप लगने पर उसे पार्टी से निकाल देती हैं तो फिर बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को अब तक पार्टी से बर्खास्त क्यों नहीं कर रही. उन्होंने कहा कि सीबीआई ने आरोपों को सही पाते हुए विधायक के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल कर दी है, ऐसे में बीजेपी को विधायक सेंगर को तुरंत बर्खास्त करना चाहिये ताकि, निष्पक्ष जांच हो सके.