मामल्लापुरम (एएनआई)। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग महाबलीपुरम पहुंच गए हैं। पीएम मोदी ने शुक्रवार को तमिल अंदाज में उनका स्वागत किया। दोनों नेताओं ने महाबलीपुरम में सबसे पहले अर्जुन की तपस्या (ऐतिहासिक स्थल) का दौरा किया। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग महाबलिपुरम में कई मंदिरों में भी गए। बता दें कि महाबलीपुरम में मंदिर के समूहों को यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल के रूप में निर्धारित किया है।


राउंड बोल्डर का दौरा
पीएम मोदी और चिनफिंग ने महाबलीपुरम में ऐसे कई ऐतिहासिक स्थलों का दौरा किया, जिन्हें यूनेस्को ने विश्व का धरोहर माना है। इसके अलावा दोनों नेता महाबलीपुरम में राउंड बोल्डर के पास भी गए, जिसे कृष्ण की बटर बॉल के रूप में भी जाना जाता है।


पांच रथों का दौरा
वहीं, पीएम मोदी और चिनफिंग ने महाबलिपुरम में पांच रथों का भी दौरा किया। यहां दोनों नेताओं की तस्वीर को देख सकते हैं।  इसके बाद पीएम मोदी और चिनफिंग ने शोर मंदिर का भी दौरा किया।बता दें कि महाबलीपुरम में राष्ट्रपति शी का लोगों ने पारंपरिक ढोल बजाकर भव्य स्वागत किया। दोनों नेता शुक्रवार को चेन्नई पहुंचे थे, वहां से वे 11 से 12 अक्टूबर तक दो दिवसीय शिखर सम्मेलन के लिए ममल्लापुरम के लिए हुए।


शी और मोदी के बीच यह दूसरा अनौपचारिक शिखर सम्मेलन

यह शी और मोदी के बीच दूसरा अनौपचारिक शिखर सम्मेलन है। इससे पहले पीएम मोदी और शी चिनफिंग ने पिछले साल चीन के वुहान में द्विपक्षीय सहयोग की मजबूती के लिए एक इंफाॅरमल समिट के तहत मुलाकात की थी। मोदी शी जिनपिंग के बुलावे पर तीन दिन के दौरे पर चीन गए थे। इसके बाद पीएम मोदी ने भी उन्हें भारत आने का न्योता दिया था। शिखर सम्मेलन से पहले चीन की समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बताया है कि मोदी-शी की यह बैठक दोनों देशों के बीच सभी मतभेदों को खत्म करने पर केंद्रित होगी।


परिणाम होंगे फलदायक
चीन के उप विदेश मंत्री लुओ झाओहुई ने बुधवार को बीजिंग में मीडिया को बताया कि दोनों देशों के अधिकारियों ने बातचीत के माध्यम से अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के लिए सावधानीपूर्वक तैयारी की है। दोनों देशों के संयुक्त प्रयासों से, राष्ट्रपति शी की भारत यात्रा पूरी तरह से सफल होगी और द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ने के लिए दिशा निर्धारित होगी, दोनों पक्षों के बीच सहयोग के आदान-प्रदान में नई प्रगति मिलेगी। यह बैठक दुनिया को एक बार फिर अच्छा संदेश भेजेगी और इसके परिणाम भी फलदायक होंगे।'

 

 

 

 

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner