क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) के गुरुवार को जारी इंटरमीडिएट साइंस के रिजल्ट जहां निराशाजनक रहे हैं, वहीं कॉमर्स के रिजल्ट में पिछले साल की तुलना में सात परसेंट की बढ़ोतरी हुई है. साइंस में 2014 के बाद पिछले चार सालों का सबसे खराब रिजल्ट रहा है. इस साल मात्र 48.34 परसेंट स्टूडेंट्स ही साइंस में सफल हो पाए हैं, जबकि 2017 में 52.36, 2016 में 58.36, 2015 में 63.88 और 2014 में 63.65 परसेंट रिजल्ट रहा था. पिछले साल की अपेक्षा इस साल के परिणाम में 4.02 परसेंट की गिरावट आई है. हालांकि, कामर्स में लगभग सात परसेंट का सुधार हुआ है.

साइंस में आधे से अधिक फेल

जैक इंटरमीडिएट साइंस में इस सालआधे से अधिक अर्थात 51.65 फीसद बच्चे फेल हो गए. वहीं, इंटरमीडिएट कॉमर्स में बेहतर रिजल्ट होने के बावजूद राज्य के छह जिलों में आधे से अधिक बच्चे फेल हो गए. इन जिलों का परिणाम 50 फीसद से कम रहा. इन जिलों में चतरा, गोड्डा, दुमका, पलामू, गढ़वा तथा साहिबगंज शामिल हैं जहां से आधे से अधिक बच्चे फेल हो गए.

फिजिक्स व केमिस्ट्री में सबसे ज्यादा फेल

इंटर साइंस के बच्चों को ¨हदी, इकोनॉमिक्स व कंप्यूटर साइंस का जमकर साथ मिला. ¨हदी में 97.30, कंप्यूटर साइंस में 93.29 व इकोनॉमिक्स में 93.20 प्रतिशत विद्यार्थियों ने सफलता हासिल की. लेकिन भौतिकी व रसायनशास्त्र ने रिजल्ट की केमिस्ट्री खराब कर दी. फिजिक्स में 32.93 तो रसायनशास्त्र में 32.33 प्रतिशत विद्यार्थी फेल हो गए. इसके अलावा अंग्रेजी में 74.66, मैथ में 70.16, बायोलॉजी में 83.37, जियोलॉजी में 85.05 फीसद विद्यार्थी सफल रहे. पीपीजी, एमयून,ओडि़या, कुड़ुख, हो, संथाली, खोरठा, बंगाली, एजीआर, पीइआर, एआरबी व एमएचओ में सभी सफल रहे.

साइंस में 17.98 तथा कामर्स में 15.22 परसेंट को फ‌र्स्ट डिवीजन

इंटरमीडिएट की परीक्षा में भले ही साइंस के परिणाम में गिरावट दर्ज की गई है, लेकिन साइंस में कामर्स से अधिक बच्चों ने फ‌र्स्ट डिवीजन लाया है. साइंस में परीक्षा में शामिल कुल विद्यार्थियों में 17.98 फीसद को प्रथम श्रेणी हासिल हुआ, जबकि कामर्स में परीक्षा में शामिल कुल विद्यार्थियों में 15.22 फीसद को ही यह श्रेणी प्राप्त हुआ. कामर्स में द्वितीय व तृतीय श्रेणी लानेवाले विद्यार्थियों की संख्या अधिक है.

इवैल्यूशन के 7 दिन बाद ही रिजल्ट

जैक) के अध्यक्ष डॉ. अरविंद प्रसाद सिंह ने कहा कि मूल्यांकन कार्य 31 मई तक चला. इसके मात्र सात दिनों बाद रिजल्ट घोषित कर दिया गया. उन्होंने कहा कि इंटर कला और मैट्रिक का परीक्षा परिणाम भी एक सप्ताह के अंदर घोषित कर दिया जाएगा.

ऐसा रहा रिजल्ट

विवरणी साइंस कामर्स

परीक्षा फार्म भरा 93,781 40,925

परीक्षा में शामिल 92,405 40,244

प्रथम श्रेणी 16,618 6,127

द्वितीय श्रेणी 26,337 18,267

तृतीय श्रेणी 1711 2770

कुल उत्तीर्ण 44,677 27,164

कुल उत्तीर्ण छात्र 31,541 14,326

कुल उत्तीर्ण छात्राएं 13,136 12,838

पिछले 10 सालों में कैसा रहा रिजल्ट

साल- साइंस कॉमर्स

2009- - 50.39 78.53

2010 --30.33 58.99

2011-33.70 51.27

2012--48.37 66.04

2013-38.28 70.55

2014--63.65 75.83

2015- -63.88 73.99

2016--58.36 62.94

2017--52.36 60.09

2018 48.34 67.49

डिवीजन साइंस कॉमर्स (परसेट में)

फ‌र्स्ट: 17.98 15.22

सेकेंड: 28.50 45.39

थर्ड: 1.85 6.88

पास : 48.34 : 67.49

फेल : 51.66 32.51