वेई वेई को चीन ने 80 दिनों तक हिरासत में रखने का बाद जून में रिहा किया था. सबसे प्रभावशाली कलाकार होने की उप्लब्धि मिलने के बाद बीबीसी से हुई ख़ास बातचीत में उन्होंने कहा कि इस उपाधि के विपरीत वो अपने आप को शक्तिशाली महसूस नहीं करते.

54 वर्षीय वेई वेई इस उप्लब्धि को पाने वाले दूसरे कलाकार है. उपाधि देने वाले पत्रिका का कहना है कि वेई वेई का चयन इसलिए किया गया क्योंकि वो राजनीतिक रुप से भी उतने ही सक्रिय हैं, जितने वो कला जगत मे हैं.

पत्रिका के अनुसार वेई वेई की गतिविधियों ने कलाकारों को कला संग्रहालय तक सीमित रहनें की विचारधारा के आगे भी सोचने का रास्ता दिखाया है.

अंतरराष्ट्रीय प्रमुखता

वेई वेई को अप्रैल मे बीजिंग से हॉंगकॉंग जाते समय गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद उनको छुड़वाने के लिए अंतरराष्ट्रीय आंदोलन भी चला था.

चीनी अधिकारियों के अनुसार वेई वेई को कर धोखाधड़ी के आरोप मे गिरफ़्तार किया गया था, जबकि उनके परिवार का कहना है कि वेई को यह ख़ामियाज़ा राजनीतिक मामलों मे सक्रिय होने के कारण भुगतना पड़ा है.

चीन के सबसे मशहूर कलाकारों मे से एक अई वेई का नाम बीजिंग ओलंपिक के 'बर्ड्स नेस्ट' स्टेडियम की डिज़ाइनिंग करने के लिए अंतरराष्ट्रीय गलियारों मे चर्चित हुआ.

2010 मे अई वेई ने चीनी मिट्टी से बने सौ मिलियन सूरजमुखी के बीजों का गलीचा टाटा मॉर्डन के टर्बाइन हॉल के लिए बनाया था.

अई वेई वेई से पहले सबसे प्रभावशाली कलाकार होने की उपाधि वर्ष 2005 और 2008 में अपनी कलाकृति 'पिकल्ड शार्क' के लिए मशहूर डैमियन हर्स्ट को दी गई थी.

इस साल, सबसे प्रभावशाली कलाकारों की सूची में लंदन के सर्पेंटाइन गैलरी के निर्देशक हंस उलरिच ऑब्रिस्ट और जुलिया पेटन जोंस दूसरे स्थान पर रहे, जबकि न्यूयॉर्क के मॉडर्न ऑर्ट संग्रहालय के निर्देशक ग्लेन डी लॉरी तीसरे स्थान पर हैं.

International News inextlive from World News Desk