एक्सपट्र्स ने दिए मोटिवेशनल टिप्स
चीफ गेस्ट प्रो. प्रभा शंकर पांडेय ने स्टूडेंट्स को बताया कि अगर यूथ मोटिवेट नहीं होगा तब तक वह कोई काम नहीं कर पाएगा. वहीं मोटिवेशन मिलने के बाद भी उन्हें चुप नहीं बैठना चाहिए बल्कि नई रिसर्च में भी हिस्सा लेना चाहिए, जिससे उनकी पर्सनैलिटी डेवलप हो सके. वहीं स्पेशल गेस्ट के तौर पर मौजूद प्रो. विनोद सोलंकी ने कहा कि 'डू नॉट लिमिट द चैलेंज बट चैलेंज द लिमिट' की राह पर ही सफलता हासिल होगी. इस मोटिवेशल सेमिनार में एमएमएमयूटी, एमकेईसीआईटी, आईटीएम गीडा, बीआईटी और एसयूवाईईएसएच कॉलेज के स्टूडेंट्स ने पार्टिसिपेट किया.

बी मोटिवेटेड एंड पॉजिटिव
वहीं एमएमएम के फॉर्मर और गोरखपुर यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार एसके शुक्ला ने स्टूडेंट््स को अहंकार, पाखंड और भ्रष्टाचार से दूर रहने की सलाह दी. प्रिंसिपल प्रो. जेपी सैनी ने कहा कि अगर हम मोटिवेटेड और पॉजिटिव रहेंगे तो रिजल्ट््स भी पॉजिटिव मिलेंगे. वहीं एमएमएमयूटी के लिए उन्होंने कहा कि 1 दिसंबर का दिन हिस्ट्री में दर्ज हो गया है. अब इस दिन यूनिवर्सिटी का फाउंडर्स डे तो सेलिब्रेट किया ही जाएगा साथ ही सोशल इंजीनियरिंग बोर्ड का फाउंडर्स डे भी सेम डे सेलिब्रेट किया जाएगा. इस दौरान प्रो. श्रीराम चौरसिया, प्रो. पीएस पांडेय, डॉ. अर्जुन दुबे, प्रो. बीएस राय ने भी स्टूडेंट्स को मोटीवेशनल स्पीच दी.

National News inextlive from India News Desk