lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: इस बार ख्9 अगस्त को पड़ रहे रक्षाबंधन को लेकर घर-घर में तैयारियां शुरू हो चुकी है. एक ओर जहां घर में लजीज व्यंजन बनाए जाने की तैयारियां चल रही है वहीं भाई अपनी बहनों के लिए उनके फेवरेट गिफ्ट भी खरीद रहे हैं. वहीं बहनें अपने प्यारे भाइयों को राखी बांधने के लिए शुभ घड़ी का इंतजार में हैं. हर साल रक्षाबंधन के दिन बहने अपने भाइयों को सुबह तिलक लगाती है और रक्षासूत्र बांधती है. लेकिन इस बार ख्9 अगस्त को पड़ रहे रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाइयों को सुबह के समय ना तो तिलक कर सकेंगी और ना ही रक्षा सूत्र बांध सकेंगी. शुभ मुहूर्त के लिए उन्हें दोपहर तक इंतजार करना पड़ेगा. पंडित आचार्य प्रवीण कुमार बाजपेयी ने बताया कि रक्षा बंधन से एक दिन पहले ख्8 अगस्त से भद्रा लग जाएगी. जब तक भद्रा रहेगी तब तक हिंदू धर्म में कोई मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है. यह भद्रा ख्9 अगस्त की दोहपर क्.भ्0 तक रहेगी. शनिवार की भद्रा सबसे अधिक अशुभ मानी जाती है. इसे वृश्चिकी भद्रा भी कहते हैं. ऐसे में दोपहर क्.भ्क् से रक्षाबंधन मनाया जाएगा. इसके बाद शाम तक बहने अपने भाइयों को तिलक कर राखी बांध सकेंगी.