देर रात बारात घर से हुआ लापता, शव मिलने पर मचा हड़कंप

बरेली : बारादरी के मोहल्ला जगतपुर में ट्यूजडे रात बारात से लापता हुए मासूम का शव गोबर में दबा हुआ मिला. मासूम की हत्या गला दबाकर की गई थी. उसके गले पर खरोंच के निशान और नाक से ब्लड भी बह रहा था. गोबर के ढेर से उसके दोनों हाथ दिखाई दे रहे थे. जिसे देखकर आसपास के लोगों ने थाना पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने शव गोबर से निकालकर उसकी शिनाख्त कराई जिसके बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

अज्ञात के खिलाफ एफआईआर

थाना बारादरी के सूफी टोला निवासी रईश अहमद जरी कारीगर हैं. उनके तीन बेटे और बेटियां हैं. छोटा बेटा अजहर 11 वर्षीय ट्यूजडे रात नौ बजे पड़ोसी इस्लाम की शादी में दावत खाने मोहल्ले वालों के साथ गया था. देर रात वह बारातघर से वापस नहीं आया तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की. रात भर तलाश करते रहे लेकिन उसका कहीं सुराग नहीं लगा. सुबह जगतपुर पानी की टंकी इलाके में एक मजार के पास गोबर के ढेर में किसी मासूम के हाथ देखे तो सूचना पुलिस को दी गई. सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को बाहर निकाला. उसकी अजहर के रूप में शिनाख्त हुई. गर्दन पर खरोंच के निशान नाक और मुंह से ब्लड निकल रहा था. पुलिस का मानना है कि हत्यारों ने पहले मासूम की गला दबाकर हत्या की. उसके बाद शव गोबर के ढेर में दबा दिया. अजहर के पिता रईश अहमद ने किसी से कोई रंजिश होने से इनकार किया है. परिजनों ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ बारादरी थाने में एफआईआर दर्ज कराई है. परिजनों ने बताया कि अजहर ने पांच वर्ष पहले ही पढ़ाई छोड दी थी. बेटे की मौत से मां शमा परवीन का भी रो-रोकर बुरा हाल है.