सिओल (एएफपी)। अमेरिका और दक्षिण कोरिया के सैनिक अगले महीने एक साथ सैन्य अभ्यास करने वाले हैं। इसपर उत्तर कोरिया ने मंगलवार को चेतावनी दी है। उसने कहा है कि यूएस-दक्षिण कोरिया सैन्य अभ्यास अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच परमाणु को लेकर चल रही बात को प्रभावित करेगा। बता दें कि कुछ समय पहले ट्रंप ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन के साथ डीमिलिट्राइज्ड जोन (डीएमजेड) का दौरा किया था और सीमा पार करके उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन से मुलाकात की थी। इस मीटिंग के बाद दोनों के बीच लंबे समय से चल रहा विवाद खत्म हो गया था। ट्रंप और किम की आखिरी मुलाकात के बाद उत्तर कोरिया की तरफ से यह पहला बयान आया है।

फिर से शुरू कर सकते हैं परमाणु परिक्षण
उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'यदि सैन्य अभ्यास वास्तव में होता है, तो यह डीपीआरके-यूएस की कार्य-स्तरीय वार्ता को प्रभावित करेगा।' अधिकारी ने कहा कि सैन्य अभ्यास एक तरह से उत्तर कोरिया के साथ धोखा है और इसके प्रतिक्रिया में वह फिर से अपने देश में परमाणु परिक्षण शुरू कर सकते हैं।

ट्रंप बोले, उत्तर कोरिया में रखा पांव तो कई कोरियाई लोगों के छलके आंसू


परमाणु को लेकर फेल हो चुकी है वार्ता
बता दें कि ट्रंप और किम ने पिछले जून में सिंगापुर में अपना पहला शिखर सम्मेलन आयोजित किया था, जहां दोनों ने कोरियाई प्रायद्वीप पर परमाणु नष्ट करने पर सहमति जताई थी। इसके बाद दूसरा शिखर सम्मेलन फरवरी में हनोई में आयोजित किया गया लेकिन बैठक विफल रही क्योंकि दोनों नेता अपनी परेशानियों का हल ढूंढ़ने में असमर्थ रहे। दरअसल, अमेरिका चाहता था कि उत्तर कोरिया तत्काल प्रभाव पर अपने परमाणु हथियारों नष्ट करे लेकिन किम जोंग ने इसके बदले में ट्रंप के सामने प्योंयांग में लगे अमेरिकी प्रतिबंधों को तुरंत हटाने की शर्त रख दी थी। यही कारण रहा कि दोनों नेताओं के बीच किसी मुद्दे पर सहमति नहीं बन पाई।

International News inextlive from World News Desk