- जलकल व नगर निगम की लापरवाही पब्लिक पर पड़ रही भारी

- न कूड़ा उठ रहा, न सीवर हो रहा फैल सकती है बीमारी

सीन-1

डीएलडब्ल्यू स्थित पूर्वाचल विद्युत वितरण निगम के सामने कूड़े का अंबार लगा हुआ है. बारिश के बाद पानी में भीगकर कूड़ा बजबजा रहा है. इससे मच्छरजनित बीमारियां बढ़ सकती है.

सीन-2

महमूरगंज एरिया में सड़क किनारे रखे दो बड़े डस्टबिन फुल हो जाने से कूड़ा सड़क पर फैलता रहा. दोपहर के तीन बजे तक कूड़े का उठान नहीं हो सका था. जानवर कूड़ा फैलाते रहे.

सीन-3

महमूरगंज क्षेत्र के संतरघुवर नगर में सीवर चोक ले लिया है. जिसकी वजह से वहां पिछले पांच दिनों से बारिश का पानी जमा हुआ है. आने जाने वालों को काफी मुसीबत झेलनी पड़ रही है.

ये तीन मामले तो बानगी भर हैं. ऐसी तस्वीर करीब-करीब स्मार्ट सिटी बनारस के हर क्षेत्र की है. पिछले पांच दिन से लगातार हुई जोरदार बारिश में शहर की साफ-सफाई बह गई है. शहर में हर तरफ गंदगी और कूड़े का अंबार है तो सड़क से लेकर गली तक में सीवर चोक होकर गंदा पानी बह रहा है. ऐसी स्थिति तब है जब संबंधित विभाग के अधिकारी व्यवस्था ठीक हो जाने के दावे कर रहे थे. लेकिन इस बारिश ने जलकल और नगर निगम के दावों की पोल खोल दी.

हर जगह कूड़ा-कूड़ा

कैंट स्टेशन, चौकाघाट, मंडुआडीह, ककरमत्ता, खोजवां, लक्सा, कमच्छा, औरंगाबाद, सोनिया, कचहरी, सिकरौल, कच्जाकपुरा, नदेसर, रवींद्रपुरी, फातमान रोड, अर्दली बाजार-पाण्डेयपुर मार्ग, पाण्डेयपुर काली मंदिर के पास, काशी विद्यापीठ रोड आदि एरिया में प्रॉपर कूड़े का उठान नहीं हो रहा. इसके वजह से कूड़ा बजबजाकर बदबू कर रहा है. स्थानीय लोग निगम के इस व्यवस्था से बेहद आक्रोशित हैं.

सीवर ने दिया जवाब

मानसून से पहले शासन ने जलकल को शहर के सीवर और नालों को साफ करने का फरमान जारी किया था. ऐसा हुआ भी, लेकिन हर जगह नहीं. बारिश के पानी के निकासी को ध्यान में रखते हुए सड़कों को खोद कर यहां सीवरों की सफाई की गई थी. सफाई के बाद इन गड्ढों को दोबारा भर दिया गया था लेकिन बारिश ने इसकी पोल खोल दी. लगातार बारिश में सीवर फेल हो गए हैं और सीवरों का पानी सड़क पर बह रहा है.

व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए काम तेजी से हो रहा है. नगर निगम के हर जोन कार्यालय पर कैंप लगाकर लोगों को समस्या सुनने के साथ तत्काल निस्तारण भी कराया जाएगा.

जीएल केशरवानी, मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी