- राष्ट्रीय सेवा योजना के समापन पर स्वामी चिदानंद मुनि ने बेहतर मानव बनने को लेकर रखे विचार

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: सौन्दर्य बाहरी नहीं, बल्कि आंतरिक होता है. अपने आंतरिक सौन्दर्य को बढ़ाकर छात्राएं सुन्दर मानव बन सकती हैं. ये बातें बुधवार को आर्य कन्या डिग्री कॉलेज में चल रहे राष्ट्रीय सेवा योजना के समापन अवसर पर मुख्य अतिथि स्वामी चिदानंद मुनि ने कही. उन्होंने कहा कि भारतीयों को गौरवान्वित होना चाहिए, क्योकि हमारे पास गंगा जैसी पवित्र नदी, सुंदर वन और शक्ति स्वरूप कन्याएं हैं. उन्होंने मनुष्यों को उनके आंतरिक सौन्दर्य को निखारने पर अधिक जोर देने की बात कही. इस अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना की समन्वयक डॉ. मंजू सिंह ने छात्राओं को संबोधित करते हुए अपने विचार रखे.

लोक संगीत से बांधा समां

राष्ट्रीय सेवा योजना के समापन के अवसर पर स्वयं सेविकाओं ने देशगीत, लोकगीत तथा लोकनृत्य की मोहक प्रस्तुतियां दी. जिसने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया. इस दौरान कई स्वयं सेविकाओं ने स्वरचित कविताओं का पाठ किया. अतिथियों ने प्रस्तुतियों की जमकर प्रशंसा की. इसके पहले अध्यक्ष शासी निकाय पंकज जयसवाल ने मुख्य अतिथि स्वामी चिदानंद मुनि, विशिष्ट अतिथि साध्वी जी एवं राष्ट्रीय सेवा योजना इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की समन्वयक डॉ. मंजू सिंह ने बुके देकर सम्मानित किया.