Navratri 2020 Day 5 Skandmata Puja : नवरात्रि के पांचवे दिन स्कंदमाता की पूजा की जाती है। मां दुर्गा के इस स्वरूप को प्रसन्न करने के लिए उन्हें भोग में केले व नैवेद्य चढ़ाएं। मां दुर्गा के इस स्वरूप की पांचवे दिन पूजा-अर्चना करने से पहले जान लें कि उन्हें भोग में क्या चढ़ाएं व किस विधि से उनकी पूजा करें। इसके साथ ही जानें स्कंदमता की आरती जो पूजन के दौरान करने से फलदायी होती है।

Navratri 2020 Day 5 skandmata Puja : चैत्र नवरात्रि 25 मार्च से प्रारंभ हो गई है। प्रथम दिन से लेकर नवमी तक मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा अर्चना की जाती है। नवरात्रि के पहले दिन माता शैलपुत्री की पूजा होती है। दूसरे दिन मां ब्रह्माचारिणी को पूजा जाता है। वहीं तीसरा दिन माता चंद्रघंटा को होता है। चौथे दिन मां दुर्गा के रुप कूष्माण्डा को पूजते हैं। वहीं पांचवे दिन स्कंदमाती की पूजा- अर्चना की जाती है। उनके इस स्वरुप की किस विधि पूजा करें व कौन सा भोग लगाएं, यहां जानें। उनकी आराधना के वक्त करें विशेष आरती तो उत्तम फल प्राप्त होंगे। पांचवें दिन मां को मालपुए का भोग लगाकर मन्दिर में ब्राह्यणों को दान देने से बुद्धि का विकास होता है एवं निर्णय शक्ति बढ़ती है। पांचवे दिन माता रानी को केले का नैवेद्य चढ़ाने से शरीर स्वस्थ रहता है।

स्कंदमाता की आरती

जय तेरी हो अस्कंध माता

पांचवा नाम तुम्हारा आता

सब के मन की जानन हारी

जग जननी सब की महतारी

तेरी ज्योत जलाता रहू मै

हरदम तुम्हे ध्याता रहू मै

कई नामो से तुझे पुकारा

मुझे एक है तेरा सहारा

कही पहाड़ो पर है डेरा

कई शेहरो मै तेरा बसेरा

हर मंदिर मै तेरे नजारे

गुण गाये तेरे भगत प्यारे

भगति अपनी मुझे दिला दो

शक्ति मेरी बिगड़ी बना दो

इन्दर आदी देवता मिल सारे

करे पुकार तुम्हारे द्वारे

दुष्ट दत्य जब चढ़ कर आये

तुम ही खंडा हाथ उठाये

दासो को सदा बचाने आई

'चमन' की आस पुजाने आई

Posted By: Vandana Sharma

inext-banner
inext-banner