लाहौर (पीटीआई)। पाकिस्तानी जेल में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के स्वास्थ्य की निगरानी करने वाली खास मेडिकल टीम का कहना है कि नवाज की बीमारी बढ़ गई है और उन्हें  तुरंत जेल से अस्पताल में शिफ्ट करना चाहिए। शरीफ को अस्पताल में शिफ्ट करने का सुझाव प्रांतीय गृह मंत्रालय को दिया गया है। 25 जनवरी को, पंजाब प्रांतीय सरकार ने शरीफ के स्वास्थ्य की जांच के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन किया था। मेडिकल बोर्ड में आर्म्ड फाॅर्स इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी (एएफआईसी), पंजाब इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी (पीआईसी) और रावलपिंडी इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी (आरआईसी) के हृदय विशेषज्ञ हैं, उन्होंने 30 जनवरी को लाहौर की जेल में शरीफ की बीमारी का विस्तृत टेस्ट किया।

पूरी तरह से जांच के बाद बनाई रिपोर्ट
शरीफ के निजी चिकित्सक डॉ. अदनान ने भी उनके दिल की बीमारी से जुड़ी जानकारी मेडिकल बोर्ड को दी थी।  पूरी तरह से जांच के बाद और कुछ मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर विशेष मेडिकल बोर्ड ने अपनी रिपोर्ट तैयार की और उसे अधिकारियों को सौंप दी। उस रिपोर्ट में यह सुझाव दिया गया कि शरीफ को जल्द से जल्द अस्पताल में शिफ्ट करने की जरुरत है। शरीफ के परिवार की भी मांग है कि उन्हें अस्पताल में शिफ्ट किया जाना चाहिए क्योंकि जेल में शरीफ का ठीक तरह से इलाज नहीं हो पा रहा है। बता दें कि पाकिस्तान की एक एंटी-करप्शन कोर्ट ने 24 दिसंबर को अल-अजीजिया स्टील मिल्स और एक अन्य भ्रष्टाचार मामले में तीन बार प्रधानमंत्री रहे नवाज को दोषी करार देते हुए सात साल जेल की सजा सुनाई थी। इसके बाद 25 दिसंबर को उन्हें कोट लखपत जेल में शिफ्ट कर दिया गया था।

खाशोग्गी की हत्या के भयानक टेप को नहीं सुनना चाहते हैं ट्रंप

पाकिस्तान ने लादेन को दी पनाह, अमेरिका के लिए भी कुछ नहीं करता, इसलिए रोकी मदद : ट्रंप

International News inextlive from World News Desk

LIVE : PNB MetLife Webinar

blinkLIVE