- औरंगाबाद में पड़रिया कैंप पर नितेश-अभिजीत के दस्ते ने ढाई सौ मीटर की दूरी से बोला हमला

- एसटीएफ ने की जवाबी फाय¨रग, भागे नक्सली, मौके से खोखे बरामद

patna@inext.co.in

AURANGABAD/PATNA : शनिवार की रात औरंगाबाद एसटीएफ के पड़रिया कैंप पर नक्सलियों ने हमला बोल दिया. जवाबी फाय¨रग के बाद नक्सली जंगल की ओर फरार हो गए. बताया गया कि नक्सली कमांडर नितेश और अभिजीत की अगुवाई वाले दस्ते ने हमला किया. रविवार सुबह जंगल में सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया. औरंगाबाद जिला के देव थानान्तर्गत पड़रिया गांव के स्कूल में एसटीएफ का कैंप है. वहां करीब ढाई सौ मीटर दूर तालाब पर मोर्चा लेते हुए नक्सलियों ने कैंप को निशाना बनाया. एसटीएफ के जवान तत्काल अलर्ट हो गए. दोनों तरफ से सौ राउंड से अधिक फाय¨रग का अनुमान है, हालांकि उस दौरान कोई हताहत नहीं हुआ. दक्षिण में थोड़ी दूरी पर अवस्थित जंगल और पहाड़ की तरफ नक्सली भाग निकले.


कोबरा की टीमें कर रही छापेमारी

एएसपी (अभियान) राजेश सिंह और थानाध्यक्ष मनोज राम सूचना मिलते ही पड़रिया पहुंचे. उनके पीछे एसपी डॉ. सत्यप्रकाश और सीआरपीएफ के कमांडेंट एसके चौधरी भी पहुंचे. नक्सली जहां से मोर्चा लिए थे, अफसरों ने उस जगह की जांच की. रविवार सुबह मुठभेड़ स्थल से दर्जनों खोखे बरामद हुए. नक्सलियों के खिलाफ दक्षिणी इलाके के जंगल और पहाड़ में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है. सीआरपीएफ, एसटीएफ और कोबरा की दो-दो टीमें छापेमारी में शामिल हैं.

 

नक्सलियों के आंगन में कैंप

एएसपी (अभियान) ने बताया कि नक्सलियों के आंगन में सुरक्षाबलों ने कैंप लगाया है. इससे नक्सली बौखलाए हुए हैं. हताशा में उन्होंने कैंप को निशाना बनाकर फाय¨रग की. नक्सली कमांडर नितेश और अभिजीत के दस्ते ने गोलीबारी की है. जवानों ने बहादुरी का परिचय देते हुए उन्हें खदेड़ दिया.

 

ग्रामीणों में दहशत

इस मुठभेड़ के बाद पड़रिया, केताकी, विशुनगंज, नकटी समेत आसपास के गांवों के ग्रामीण दहशत में हैं. शनिवार ग्रामीणों की रात जागते हुए बीती. ग्रामीणों को आशंका है कि नक्सली पलटवार कर सकते हैं, हालांकि सुरक्षा बलों के जवान पूरी तरह अलर्ट हैं.

 

हमले के बाद से सुरक्षा बल अलर्ट उल्लेखनीय है कि पिछले साल 29 दिसंबर को नक्सलियों ने देव के सुदीबिगहा और गोदाम पर हमला बोल दिया था. भाजपा के विधान पार्षद राजन कुमार सिंह के चाचा नरेंद्र सिंह की हत्या कर दी थी. कई बसों और वाहनों के साथ तमाम परिसंपत्तियों को आग के हवाले कर दिया था. उसके बाद से देव में सुरक्षा बल अलर्ट हैं.