स्टेडियम में बायोमेट्रिक मशीन से होनी थी अटेंडेंस की व्यवस्था

खेलों की ट्रेनिंग की फोटोग्राफी कराने के भी खेल मंत्री ने दिए थे निर्देश

Meerut . एक माह पहले शासन स्तर पर खेल मंत्री ने कैलाश प्रकाश स्पो‌र्ट्स स्टेडियम में अराजकता को रोकने व बाहरी लोगों के प्रवेश पर बैन लगाने के लिए बायोमैट्रिक मशीन लगाने का निर्देश दिया था. इसके साथ ही कोच को कोचिंग की फोटोग्राफी व वीडियो भेजने के लिए कहा गया था. मगर एक माह बीतने के बावजूद ये खेल मंत्री के ये निर्देश लागू नहीं हो सके बल्कि स्टेडियम में सिर्फ मनमानी ही चल रही है.

बाहरी प्रवेश रोकने के लिए किया

गौरतलब है कि स्टेडियम में खेल की दिशा में सुधार और बाहरी लोगों के अनावश्यक प्रवेश पर बैन लगाने के लिए खेल मंत्री ने बायोमैट्रिक से अटेंडेंस का नियम लागू करने का निर्देश दिया था. निर्देशों के अनुसार पूरी व्यवस्था को एक सप्ताह में लागू किया जाना था. इसके तहत दो गार्ड की ड्यूटी लगाने के भी निर्देश गए थे.

कोच नहीं कर सकेंगे कामचोरी

दरअसल, शासन को लगातार ये शिकायतें मिल रही थी कि कुछ कोच ट्रेनिंग देने के टाइम पर अपना पर्सनल काम करते हैं और सीनियर खिलाड़ी ही उनकी जगह जूनियर्स को कोचिंग देते हैं. कोच की मनमानी पर रोक लगाने के लिए ही खेल मंत्री ने अपने दौरे के दौरान कोच द्वारा खिलाडि़यों को दी जा रही ट्रेनिंग की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करा रोजाना शासन को फीड भेजने के निर्देश दिए थे.

--------------------

अटेंडेंस शुरू होने वाली है. हालांकि चेकिंग की जा रही है ताकि कोई बाहरी व्यक्ति स्टेडियम में एंट्री न कर सके. इसके अलावा कोच को वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी के लिए भी बोल दिया गया है.

आले हैदर, आरएसओ, कैलाश प्रकाश स्पो‌र्ट्स स्टेडियम