- अब लेटेस्ट मशीनों से हो सकेंगे सभी जरूरी टेस्ट

- मरीजों को परेशानी से बचाने के लिए लैब के बाहर बनाई जाएगी हेल्प डेस्क

1 डॉक्टर की नई पैथोलॉजी लैब में तैनाती

2 लैब टेक्निीशियन भी किए गए नियुक्त

2 लैब टेक्निीशियन अगले माह और लगाए जाएंगे

बरेली : सरकारी हॉस्पिटल्स में मरीजों को बेहतर सुविधाएं देने के प्रयास लगातार जारी हैं. इसी क्रम में अब डिस्ट्रिक्ट महिला हॉस्पिटल में नई पैथोलॉजी लैब की शुरूआत की गई है, जहां मरीजों की सभी जरूरी जांचें लेटेस्ट मशीनों के जरिए की जाएंगी. इससे तीमारदारों पर जहां इलाज का खर्च कम होगा वहीं समय की भी बचत होगी.

पहले होती थी सिर्फ खून की जांच

करीब एक महीने पहले की बात करें तो यहां सिर्फ खून की ही जांच ही होती थी, अन्य जांचों के लिए मरीजों को बाहर का रुख करना पड़ता था. जिससे रुपए और समय दोनों की बर्बादी होती थी और देर में रिपोर्ट मिलने से इलाज भी समय से नहीं मिल पाता था. लेकिन अब हॉस्पिटल में लेबर रूम के ऊपर बनी नई पैथोलॉजी लैब बनने से मरीज और तीमारदारों को इस परेशानी से निजात मिल जाएगी.

अब ये टेस्ट भी होंगे

लिवर, किडनी, बलगम, एचबी, टीएलसी, डीएलसी समेत अन्य कई जाचें अब डिस्ट्रिक्ट महिला हॉस्पिटल की लैब में हो सकेंगी. अभी तक इन जांचों को कराने के लिए मरीजों को हॉस्पिटल के बाहर प्राइवेट लैब में जाना पड़ता था, जिसके लिए उन्हें मोटी रकम भी खर्च करनी पड़ती थी.

हेल्प डेस्क भी बनेगी

लैब के बाहर मरीजों की सहूलियत के लिए हेल्प डेस्क बनाई जाएगी. जो भी मरीज जांच के लिए यहां आएगा उससे किस रूम में जाना है इसका पता हेल्प डेस्क से ही चलेगा. यहां मरीज का नाम नोट किया जाएगा जिससे यह पता चलेगा कि डेली कितने मरीज जांच के लिए आए.

सभी जांचे फ्री, न ही कोई खर्चा-पानी

महिला हॉस्पिटल की लैब में जांच कराने पर मरीजों और तीमारदारों को जेब भी ढीली नहीं करनी पड़ेगी. किसी भी जांच के लिए कोई फीस नहीं ली जाएगी. वही सीएमएस ने स्टाफ को निर्देशित किया है कि जांच के नाम पर सुविधा शुल्क मांगने की शिकायत मिली तो संबंधित कर्मचारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

नहीं करना होगा इंतजार

लैब में जांच के लिए आने वाले मरीजों को अधिक देर तक परेशान न होना पड़े इसके लिए एक डॉक्टर और चार लैब टेक्नीशियन की तैनाती की गई है. अगले माह से दो लैब टेक्नीशियन की तैनाती और की जाएगी.

वर्जन

मॉडल पैथोलॉजी लैब शुरु हो गई है, पहले सिर्फ खून की जांच होती थी लेकिन अब अन्य जांचे फ्री होंगी. यहां एक डॉक्टर और चार टेक्नीशियन की तैनाती कर दी गई है.

डॉ. अलका शर्मा, सीएमएस, महिला हॉस्पिटल.