क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: छठ को लेकर शहर में भक्तिमय माहौल है. चारों ओर पूजा की तैयारियों में लोग जुट गए हैं. खरना के बाद मंगलवार को अ‌र्घ्य की तैयारी भी शुरू हो जाएगी. ऐसे में नगर निगम ने छठ घाट जाने वाले रास्तों पर चिकन-मटन की दुकानें लगाने पर रोक लगा दी है. वहीं घाट के आसपास में भी दुकान नहीं लगाई जाएंगी. संबंधित सुपुरवाइजरों को इसकी मॉनिटरिंग करने के लिए कहा गया है. इसके बावजूद अगर दुकानें लगती हैं तो सुपरवाइजरों पर कार्रवाई की जाएगी.

स्वच्छता का खास महत्व

अपर नगर आयुक्त गिरजा शंकर प्रसाद ने कहा कि शहर में खुले में चिकन-मटन काटकर बेचा जाता है. इससे छठ करने वालों को रास्ते से गुजरने में परेशानी होगी. वहीं इस पर्व में स्वच्छता का भी काफी महत्व है. चूंकि छठ करने वाले व्रती दंडवत करते हुए घाट तक जाते हैं. ऐसे में दुकानें लगाई जाती हैं तो गंदगी भी होगी. इससे हर जगह सफाई रख पाना मुश्किल होगा. इसे देखते हुए दुकानें लगाने पर रोक लगाई गई हैं.

विशेष अभियान चलाकर की जाए सफाई

पूजा को देखते हुए सफाई करने वाली एजेंसी आरएमएसडब्ल्यू को भी काम में तेजी लाने को कहा गया है. वहीं सुबह से रात तक सभी रास्तों के किनारे से कचरे का उठाव सुनिश्चित करने को कहा गया. इसके अलावा छठ के दिन हर हाल में दोपहर से पहले सफाई का काम एजेंसी को पूरा करना होगा. ताकि घाट जाने वाले श्रद्धालुओं को कहीं भी गंदगी न मिले. इसके अलावा घाटों के आसपास में विशेष अभियान चलाकर सफाई कराना है. इसके बाद घाटों के आसपास और पहुंच पथ में पानी का छिड़काव नगर निगम के टैंकर से कराया जाएगा.

वर्जन

पूजा को लेकर किसी भी तरह की गंदगी से समझौता नहीं किया जाएगा. चिकन-मटन-मछली की दुकानें लगती हैं, जिसे छठ तक बंद कराने को कहा गया है. सुपरवाइजरों को इस पर नजर रखते हुए सुनिश्चित कराना है. सफाई को लेकर भी एजेंसी को निर्देश दिया गया है. घाटों के पास भी अलग से व्यवस्था की गई है.

गिरजा शंकर प्रसाद, अपर नगर आयुक्त, आरएमसी